🤲 नात-ए-शरीफ - non nii हम रोजाना इनबॉक्स _ _ खोलते हैं कि हमारे दोस्त ने कौन सा _ _ मैसेज भेजा है लेकिन क्या हम रोजाना कुरान खोलते हैं कि अल्लाह ने हमें कौन सा मैसेज दिया . Com e vel CLA Mehboob Ali Sheikh - ShareChat
#🤲 नात-ए-शरीफ
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post