Jay bhim वही बोलना गुलाम नही हैं
डेरिंगबाज खिलाड़ी - पढ़ने लिखने के बाद भी गुलामी ही करनी थी । तो वो गुलाम ही ज्यादा अच्छे थे जो अनपढ़ थे . . . कम से कम दोगले तो नही थे । - ShareChat
172 views
2 months ago
Share on other apps
Facebook
WhatsApp
Copy Link
Delete
Embed
I want to report this post because this post is...
Embed Post