हंसी का पिटारा - कुछ बच्चे सड़क पर अपने पटाखे जला रहे थे । अभी एक पटाखे में चिंगारी * लगाई ही थी की सामने से एक आंटी आती दिखी । सब चिल्लाने लगे - आंटी पटाखा है आंटी पटाखा है आंटी पटाखा है । आंटी मुस्कराई और और बोली : नहीं रे पगलो , अब पहले जैसी बात कहां । - ShareChat
535 ने देखा
7 महीने पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post