🌜शुभ संध्या - * चलो चलते है उस जहाँ में जहाँ रिश्तों का नाम नहीं पूछा जाता धडकनों पर कोई बंदिश नहीं | ख्वाबों पर कोई इलज़ाम नहीं दिया जाता है - ShareChat
4.8k ने देखा
9 दिन पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post