हम उनको सुनाते रहे ग़मों के किस्से... जो शख़्स कान से नहीं दिल से बहरे थे ...!!💔💔
💔दर्द-ए-दिल - ShareChat
153 ने देखा
1 साल पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post