एक पछी की कोशिश #साहसी पच्छी
साहसी पच्छी - मेरे अकेलेसे क्या होगा ? एक गाँव मे आग लगी । सभी लोग उसे बुझानेमें लगे । वही एक चिडीया अपने चोंच में पानी भरती और आग में डालती रही । फिर जाकर पानी ले आती , आग में डालती । एक कौआ ये देख रहा था । कौआ बोला , अरे पगली , तू कितनी भी मेहनत कर , तेरे बुझाने से ये आग नही बुझेगी । । उसपर चिडीया बोली , मुझे पता है , मेरे बुझानेसे आग नही बुझेगी । लेकीन जबभी इस आग का जिक्र होगा , तो मेरी गिनती बुझानेवालों में और तेरी गिनती तमाशा देखनेवालों में होगी । अब यह सोचना है की , हम किनमें आते है ? कईबार हम सोचते है । की , मेरे अकेले के करने से क्या होगा ? पर ये बात भुलनी नही चाहिए की , बड़े से बडे सफर की शुरुआत भी एक छोटे कदम से होती है ! ! सुभाष देशमुख - ShareChat
106 ने देखा
2 महीने पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post