#🖊 एक रचना रोज ✍
🖊 एक रचना रोज  ✍ - काटों पर भी दोष कैसे डालें जनाब पैर तो हमने रखा वो अपनी जगह पर थे Shayar - e - Barbaad - ShareChat
118.7k ने देखा
1 महीने पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post