#📝कविता / शायरी/ चारोळी #🌹प्रेमरंग #☕शुभ संध्याकाळ
📝कविता / शायरी/ चारोळी - GULZAR S ' POEMS . . आँधी की तरह उड़कर इकराह गुज़रती है । शरमाती हुई कोई क़दमों से उतरती है । इन रेशमी राहों में इक राह तो वो होगी तुम तक जो पहुंचती है . . . . गुलज़ार - ShareChat
3k जणांनी पाहिले
1 महिन्यांपूर्वी
इतर अॅप्स वर शेअर करा
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करा
काढून टाका
Embed
मला ही पोस्ट रिपोर्ट करावी वाटते कारण ही पोस्ट...
Embed Post