#📝कविता / शायरी/ चारोळी yes
📝कविता / शायरी/ चारोळी - कभी धागे बड़े कमजोर चुन लेते है हम और . . फिर पूरी उम्र गांठ बांधने में ही निकल जाती है गुलज़ार - ShareChat
37.1k जणांनी पाहिले
24 दिवसांपूर्वी
इतर अॅप्स वर शेअर करा
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करा
काढून टाका
Embed
मला ही पोस्ट रिपोर्ट करावी वाटते कारण ही पोस्ट...
Embed Post