#📖 कविता
📖 कविता - कुछ यूं खो गई हूं , अपनों से ही दूर हो गई हूं खुबसूरत से पल हुआ करते थे . लबो पर मुस्कान के क्षण हुआ करते थे शायद इतनी खुश थी उन दिनों कि लगता हैं खुद की ही नजर लग गई अब रिश्ते इतने बेगाने हो गये और हम सबसे अनजाने हो गये । । O - Karnika YourQuote . in - ShareChat
58.1k ने देखा
2 महीने पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post