गुरदासपुर/इस्लामाबाद.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को पंजाब के गुरदासपुर मेंकरतारपुर कॉरिडोर का उद्घाटन किया। उन्होंने डेरा बाबा नानक स्थित कॉरिडोर के चेकपोस्‍ट से 550 श्रद्धालुओं कापहला जत्था करतारपुर रवाना किया। मोदी ने पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और अन्य नेताओं के साथ लंगर भी छका। उन्होंने रैली में कहा कि कॉरिडोर को कम वक्त में तैयार करने के लिए इमरान खान को धन्यवाद देता हूं। पाकिस्तान के श्रमिक साथियों का भी आभार व्यक्त करता हूं, जिन्होंने इतनी तेजी से अपनी तरफ के कॉरिडोर को पूरा करने में मदद की। इस कॉरिडोर का निर्माण कार्य 11 महीने में पूरा हुआ है। उन्होंने कहा कि ये मेरा सौभाग्य है कि मैं आज देश को करतारपुर साहिब कॉरिडोर समर्पित कर रहा हूं। जैसी अनुभूति आप सभी को कार सेवा के समय होती है, वही, मुझे इस वक्त हो रही है। मैं आप सभी को, पूरे देश को, दुनिया भर में बसे सिख भाई-बहनों को बहुत-बहुत बधाई देता हूं। गुरु नानक देव हमारे प्रेरणा पुंज हैं: मोदी प्रधानमंत्री ने कहा कि गुरु नानक देव जी, सिर्फ सिख पंथ की, भारत की ही धरोहर नहीं, बल्कि पूरी मानवता के लिए प्रेरणा पुंज हैं। गुरु नानक देव एक गुरु होने के साथ-साथ एक विचार हैं, जीवन का आधार हैं। उन्होंने सीख दी कि धर्म तो आता जाता रहता है लेकिन सत्य मूल्य हमेशा रहते हैं। उन्होंने सीख दी है कि अगर हम मूल्यों पर रह कर काम करते हैं तो समृद्धि स्थायी होते हैं। करतारपुर के कण-कण में गुरु नानक देवजी के पसीने की महक मिली है। यहां की वाणी में उनकी वाणी की गूंज मिली हुई है। मोदी ने कहा कि संसार में सेवा का मार्ग अपनाने से ही मोक्ष मिलता है और जीवन सफल होता है। हम समाज के भीतर सद्भाव पैदा करने की हर कोशिश करेंगे। हम भारत का अहित सोचने वाली ताकतों से सावधान रहेंगे, सतर्क रहेंगे। नशे जैसी समाज को खोखला करने वाली आदतों से दूर रहेंगे। अपनी आने वाली पीढ़यो को दूर रखेंगे। विकास के पथ को सशक्त करेंगे। मोदी ने बेर साहिब गुरुद्वारे में माथा टेका वेसुबह करीब 11 बजे डेरा बाबा नानक पहुंचे थे। उन्होंने सुल्तानपुर लोधी में बेर साहिब गुरुद्वारे में माथा टेका। उधर, सिख श्रद्धालुओं का पहला जत्था भारत से पाकिस्तान स्थित करतारपुर कॉरिडोर पहुंचा। डेरा बाबा नानक में अकाली नेता सुखबीर बादल, केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी, गुरदासपुर से सांसद सन्नी देयोल ने प्रधानमंत्री मोदी का स्वागत किया। यहां मोदी ने भजन-कीर्तन में हिस्सा लिया। उधर, पंजाब के पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू करतारपुर कॉरिडोर टर्मिनल पहुंचे, जहां से वे पहले जत्थे के साथ करतारपुर साहिब के दर्शन करने पाकिस्तान रवाना हुए। करतारपुर कॉरिडोर: भारत-पाकिस्तान में सद्‌भाव का 5वां सबसे बड़ा कदम सिंधु जल संधि: 1960 में नेहरू-अयूब में समझौता - जल विवाद पर एक सफल उदाहरण है। कराची में 19 सितंबर, 1960 को तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू और पाकिस्तान के राष्ट्रपति अयूब खान ने हस्ताक्षर किए थे। दोनों देशों में दो युद्धों के बावजूद ये संधि कायम है। सिंधु का इलाका करीब 11.2 लाख किलोमीटर क्षेत्र में फैला है। पाक में 47%, भारत (39%), चीन (8%) और अफगानिस्तान (6%) में है। समझौता एक्सप्रेस: 1976 में अटारी-वाघा के बीच चली ट्रेन - दोनों देशों में सौहार्द बढ़ाने के लिए 22 जुलाई 1976 को अटारी-लाहौर के बीच शुरू की गई थी। समझौता एक्सप्रेस अटारी-वाघा के बीच 3 किमी का रास्ता तय करती है। इस ट्रेन के लोको पायलट और गार्ड चेंज नहीं होते। शताब्दी और राजधानी जैसी ट्रेनों के ऊपर प्राथमिकता दी जाती है। फिलहाल ट्रेन बंद है। मैत्री बस सेवा : करगिल युद्ध में भी बस बंद नहीं की - 19 फरवरी 1999 को मैत्री बस की शुरुआत की गई। उद्घाटन पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने किया था। वह पाकिस्तान भी गए थे। 1999 में जब करगिल हुआ, तो भी बस को बंद नहीं किया गया। हालांकि, 2001 में संसद पर हमले के इसे रद्द कर दिया गया। यह 2003 में फिर से चली। फिलहाल, बस सेवा है। सीजफायर संधि : सीमा पर शांति के लिए बढ़ाए हाथ - सीमा पर शांति के लिए दोनों देशों ने 2003 में युद्धविराम का ऐलान किया था। 25 नवंबर 2003 की आधी रात से युद्धविराम लागू हुआ था। अटल बिहारी वायपेयी की पहल के बाद एक औपचारिक युद्धविराम का ऐलान किया था। हालांकि, इसका उल्लंघन भी किया जा रहा है। पाकिस्तान के वो 4 गुरुद्वारे जहां कण-कण में नानक गुरुद्वारा ननकाना साहिब (लाहौर) - लाहौर से करीब 80 किलोमीटर दूर गुरु नानक जी का जन्म स्थान है। पहले इसे राय भोए दी तलवंडी के नाम से जानते थे। नानक जी के जन्म स्थान से जुड़ा होने से अब यह ननकाना साहिब बन गया है। गुरुद्वारा ननकाना साहिब लगभग 18,750 एकड़ में है। ये जमीन तलवंडी गांव के एक मुस्लिम मुखिया राय बुलार भट्टी ने दी थी। करतारपुर साहिब (नारोवाल) - सिखों के सबसे पवित्र तीर्थ स्थलों में से एक है। गुरु नानक 4 यात्राओं को पूरा करने के बाद यहीं बसे थे। यहां उन्होंने हल चलाकर खेती की। गुरु जी अपने जीवन काल के अंतिम 18 वर्ष यहीं रहे और यहीं अंतिम समाधि ली। यहीं गुरु जी ने रावी नदी के किनारे ‘नाम जपो, किरत करो और वंड छको’ का उपदेश दिया था। लंगर की शुरुआत भी यहीं से हुई थी। यह नारोवाल जिले में है। गुरुद्वारा पंजा साहिब (रावलपिंडी) - रावलपिंडी से 48 किलोमीटर दूर है। बताते हैं कि एक बार गुरु जी अंतरध्यान में थे, तभी वली कंधारी ने पहाड़ के ऊपर से एक विशाल पत्थर को गुरु जी पर फेंका। जब पत्थर उनकी तरफ आ रहा था, तभी गुरु जी ने अपना पंजा उठाया और वह पत्थर वहीं हवा में ही रुक गया। इस कारण गुरुद्वारे का नाम 'पंजा साहिब' पड़ा। आज भी पंजे के निशान ज्यों के त्यों है। गुरुद्वारा चोआ साहिब (पंजाब प्रांत) - यहां श्री गुरु नानक देव जी ठहरे थे, यह जगह 72 साल बाद 550वें प्रकाश पर्व पर श्रद्धालुओं के लिए खोली गई है। यह पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में मौजूद है। इस गुरुद्वारा साहिब को महाराजा रणजीत सिंह ने बनवाने का काम शुरू किया था, जो 1834 में बनकर पूरा हुआ। 72 वर्ष बंद रहे इस गुरुद्वारे में बनी भित्ति चित्रकला लगभग लुप्त हो चुकी है। #🙏🏻करतारपुर साहिब कॉरिडोर 📰 #🙏 BBC Live: करतारपुर साहिब #📰शनिवार की ताज़ा ख़बरें #📰 समाचार एवं न्यूज़ पेपर क्लिप #📺 देश-विदेश की ख़बरें
🙏🏻करतारपुर साहिब कॉरिडोर 📰 - पंजाब / करतारपुर कॉरिडोर का उद्घाटन ; मोदी ने 550 श्रद्धालुओं का पहला जत्था रवाना किया , इमरान खान को शुक्रिया कहा TATE - ShareChat
12.6k ने देखा
8 दिन पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post