#रबारी #रॉयल रबारी रामा #गोगा नवमी
गोगा नवमी - लावारिस मिला था बालक , 8 महीने में पुलिस नहीं तलाश पाई परिजन मम्मी की आस में दिनभर गेट पर खड़ा रहता है 3 साल का किशना मांगीलाल स्वामी श्रीगंगानगर तलाशा कि कोई मिल जाए जो इसे तीन साल का मासूम किशना पहचानता हो । लेकिन जब कोई श्रीगंगानगर के किशोर गृह में रहता फायदा नहीं हुआ तो तलाश बंद कर उसे बाल कल्याण समिति के है । यहां का कैंची गेट उसकी सीमा आदेश से राजकीय किशोर गृह को है । इस गेट के पार होने वाली हर सौंप दिया । किशना हर सुबह उठते ही आहट पर उसकी नजर टिकी रहती पूछता है मम्मी कहां है ? बहाने सुन है । हर आने - जाने वाले को वह सुनकर वह रो पड़ता है । किशोर गृह एकटक देखता रहता है । जैसे ही के गार्ड उसके लिए कभी घोड़ा बनते । कोई गुजरता है , उसे लगता है कि हैं तो कभी कभी पुचकारते हैं । जैसे मुझे लेने मम्मी - पापा आ गए । इसी किशना रोज सुबह पूछता है , मम्मी कहां तैसे बहलाकर खाना खिलाते हैं । गेट आस में वो दिन भर गेट पर खड़ा है । नींद में सादी बच्चे से लिपट जाता है । पर खड़ - खड़ जब वह थक जाता है । रहता है । लेकिन आठ महीने से जारी : तो कमरे में जाकर दुबक जाता है । इंतजार खत्म होने का नाम नहीं ले देवनगर कॉलोनी में सड़क पर 26 रात को दिलासे के साथ कहानिया । रहा है । अपने बारे में वह बस इतना मार्च की सवा वह लावारिस मिला सुनाकर उसे सुलाया जाता है कि जब हा कहता है कि मेरा नाम किशना हे था । मानव तस्करी रोधी यूनिट और वह सोकर उठेगा तब उसकी मा उसे । और पापा का नाम किशन । शहर की चाइल्ड लाइन टीने कई दिनों तक लेने आ जाएगी । एक पुण्य का काम कर लो आप को भगवान मिल जाएगा इस पोस्ट को मैंने तो अपना फर्ज पूरा कर दिया अब इतना शेयर करो कि यह बच्चा अपने आपकी बारी है मां बाप तक पहुंच जाए - ShareChat
92 जण देख्या
1 महिना पेहली
अन्य अप्प पर शेयर करो
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करो
हटाओ
Embed
इ पोस्ट को म विरोध करूँ छू क्यूंकि...
Embed Post