अक्सर पूछते है #लोग किसके लिए #लिखते हो… #ये #शायरिया #. #कौन हैं #वो ... #अक्सर कहता है #दिल काश #कोई होता… जो मुझे नहीं मगर शायरी तो समझता
1.2k जणांनी पाहिले
2 वर्षांपूर्वी
इतर अॅप्स वर शेअर करा
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करा
काढून टाका
Embed
मला ही पोस्ट रिपोर्ट करावी वाटते कारण ही पोस्ट...
Embed Post