#🎤 शेयरचैट कविता मंच
🎤 शेयरचैट कविता मंच - उलझी पड़ी हैं ज़िन्दगी इन रेल की पटरियों की तरह . . . रास्ते तो बहुत हैं पर . . समझ में नही आ रहा चलना किस पर हैं . . ! ! ! - ShareChat
162.5k ने देखा
28 दिन पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post