#🎼 ग़ज़ल
🎼 ग़ज़ल - हुस्न को चाँद , लब को गुलाब , आँख को कँवल । की तरह लिख . . . मगर लिखनी है ग़ज़ल तो फिर ग़ज़ल को । ग़ज़ल की तरह . . . ! ! - ShareChat
2.8k ने देखा
1 महीने पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post