हेत-प्रेम री कविता - RAIPUTSHIVAM अच्छे ने अच्छा जाना मुझे बुरे ने बुरा जाना मुझे जिसकी जैसी सोच थी उसने उतना ही पहचाना मुझे ~ हरिवंश राय बच्चन - ShareChat
24.6k जण देख्या
1 महिना पेहली
अन्य अप्प पर शेयर करो
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करो
हटाओ
Embed
इ पोस्ट को म विरोध करूँ छू क्यूंकि...
Embed Post