"कभी तुम पूछ लेना, कभी हम भी ज़िक्र कर लेगें.. छुपाकर दिल के दर्द को, एक दूसरे की फ़िक्र कर लेंगे। "
💏इश्क़-मोहब्बत - हवीं करत कुछ रिश्तादिलाही उनके नाम नहीं हुआ करतीं । - ShareChat
233 ने देखा
1 साल पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post