tulsi das ji - आवत ही हरषे नहीं नैनन नहीं सनेह । तुलसी तहां न जाइये कंचन बरसे मेह । । | तुलसीदास जी जिस स्थान या जिस घर में आपके जाने से लोग खुश नहीं होते हों और उन लोगों की आँखों में आपके लिए न तो प्रेम और नहीं स्नेह हो . वहां हमें कभी नहीं जाना चाहिए , चाहे वहाँ धन की हीं वर्षा क्यों | न होती हो . - ShareChat
241 ਨੇ ਵੇਖਿਆ
1 ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
ਬਾਕੀ ਐਪਸ ਤੇ ਸ਼ੇਅਰ ਕਰੋ
Facebook
WhatsApp
ਲਿੰਕ ਕਾਪੀ ਕਰੋ
ਰੱਦ ਕਰੋ
Embed
ਮੈਂ ਇਸ ਪੋਸਟ ਦੀ ਸ਼ਿਕਾਯਤ ਕਰਦਾ ਹਾਂ ਕਿਓਂਕਿ ਇਹ ਪੋਸਟ...
Embed Post