#💭माझे विचार
💭माझे विचार - Source Google उलझी पड़ी हैं ज़िन्दगी इन रेल की पटरियों की तरह , रास्ते तो बहुत हैं पर समझ में नही आ रहा , चलना किस पर हैं . . - ShareChat
13k जणांनी पाहिले
28 दिवसांपूर्वी
इतर अॅप्स वर शेअर करा
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करा
काढून टाका
Embed
मला ही पोस्ट रिपोर्ट करावी वाटते कारण ही पोस्ट...
Embed Post