#🎙 स्वरचित साहित्य
🎙 स्वरचित साहित्य - अब मुझे तकलीफ नहीं होती चाहे कोई भी छोड कर जाये , क्योकी मैंने उन रिश्तों से धोखा खाया है जिस पर मुझे नाज था . ! ! fयही तो है जिंदगी - ShareChat
146.5k ने देखा
1 महीने पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post