📖Whatsapp शायरी - H कैसे कह दें कि मुलाक़ात नहीं होती है । रोज़ मिलते हैं मगर बात नहीं होती है । - शकील बदायुनी - ShareChat
263 ने देखा
1 साल पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post