मेरे हमसफर - वादा करके निभाना भूल जाते । लगा कर आग फिर वो बुझाना भूल जाते हैं ; ऐसी आदत हो गयी है अब तो सनम की ; | रुलाते तो हैं मगर मनाना भूल जाते हैं । - ShareChat
159 views
1 months ago
Share on other apps
Facebook
WhatsApp
Copy Link
Delete
Embed
I want to report this post because this post is...
Embed Post