मायूस तो हूं वायदे से तेरे, कुछ आस नहीं कुछ आस भी है. मैं अपने ख्यालों के सदके, तू पास नहीं और पास भी है. दिल ने तो खुशी माँगी थी मगर, जो तूने दिया अच्छा ही दिया. जिस गम को तअल्लुक हो तुझसे, वह रास नहीं और रास भी है. पलकों पे लरजते अश्कों में तसवीर झलकती है तेरी. दीदार की प्यासी आँखों को, अब प्यास नहीं और प्यास भी है। #🎼 ग़ज़ल
🎼 ग़ज़ल - किताबें , तेरे इश्क में , फिर डर लगता है . . की र कोई तुझे पाने का तलबगार ना हो जाये . . ! ! ! ! - ShareChat
6.5k ने देखा
1 महीने पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post