✒ शायरी - जो कह दिया वो . . . अल्फ़ाज़ थे । जो कह न् सके वो . . . जज़्बात थे । जो कहते कहते न कह पाये वो . . . अहसास थे । - ShareChat
11.6k ने देखा
1 महीने पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post