अपनी भाषा को बदलें
Tap the Share button in Safari's menu bar
Tap the Add to Home Screen icon to install app
ShareChat
🌹🌻🌺🌹🥀🌺🌻 पत्ता भी हिलता है तो , उसी के हुकम से ………….. अधिकार है हमारा , खुद ही के कर्म से , ………….. मिलता है फल तेरे ही कर्म की नियत से ………… आदमी जीता अपने – २ विकारों से………….. घटनाएं घटती है , हुकमें मंजूरे खुदा से ………….. चाँद – तारे भी तू ही उगा रहा है …………. रोशन है ये जहां हमारा ,………… होता सब कुछ तेरे ही रहमों कर्म से …………. है सत्तापति एक ही , जो पूरा ब्रह्माण्ड चलारहा है ………… सिर्फ तेरा ही घर नहीं ,………… वो तो जीव – जंतु सभी को चला रहा है ………………. देता है वो जिसे भी सत्ता , …………… मिलती सत्ता उसे उसी के हुकम से …………….. रखना याद इतना , है ये सत्ता उसी की ,…………. तू भी जीता है उसी के रजा से……………. दुरूपयोग होता जब भी सत्ता का , …………. गिरता फिर वापस तू उसी के हुकम से……………….. संत की तपस्या भंग हो तो वो राजा होजाता है …………… पर जब भी राजा की तपस्या भंग हो , ……….. पुनः लोटता नरक , अपने ही कर्म से …………. पत्ता भी हिलता है तो , उसी के हुकम से …………………. अधिकार है हमारा , खुद ही के कर्म से ,………… मिलता है फल तेरे ही कर्म की नियत से ……………………. - राजकुमार खन्ना 🌹🌻🌺🌹🥀🌺🌻
#

धांसू कमेंट्री

धांसू कमेंट्री - ShareChat
314 ने देखा
11 महीने पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post