@12885143j
@12885143j

Mahesh edition

💜💚ऐसे ही पोस्ट पाने के लिए sharechat पर फॉलो करे!💛❤

#

📔 किस्से-कहानी

#📔 किस्से-कहानी #😄 हँसिये और हँसाइये 😃 गजब परिवार एक परिवार मे 5 बहने थी, एक का नाम था -: टूटी 😶 दूसरी का नाम -: फटी 😋 तीसरी का नाम -: फीकी 😡 चौथी का नाम -: मरी 😵 पांचवी का नाम :- भूतनि 👻 एक दिन उनके घर पर लड़की देखने के लिये मेहमान आए ! मम्मी ने पूछा , आप कुर्सी पर बैठेगें या नीचे चटाई पर ? मेहमान:- कुर्सी पर मम्मी :- टूटी !! कुर्सी लेकर आओ , मेहमान :- नहीं नहीं , हम चटाई पर बैठ जायेंगे , मम्मी :- फटी !! चटाई लेकर आओ , मेहमान :- रहने दीजिए , हम जमीन पर ही बैठ जायेंगे , ( मेहमान जमीन पर बैठ गये) मम्मी :- आप चाय पीएँगे या दूध ? मेहमान :- चाय , ☕☕ मम्मी :- फीकी !! चाय लेकर आओ , मेहमान :- नहीं नहीं , चाय रहने दो , हमें दूध ले आओ , 🍼🍼 मम्मी :- मरी !! भेस का दूध लेके आओ , 🐃🐃 मेहमान :- रेहेने दीजिये हमें कुछ भी नहीं चाहियें 😇😇😇😇😇 सिर्फ लड़की दिखाईये , मम्मी :- बेटियों !! भूतनि को लेकर आओ , ☠☠👻👻💀💀 मेहमान :- बेहोश ! 😴😴😴😴😴 😜😜😝😝😀😀😀😀😀😀😀😃😃😃😃😃😆😆😆😜😜😝😝😛🤓🤓🤓🤓🤓🤓🤓🤓 हँसो मत फारवर्ड करो मार्केट में नया है 📚 कृप्या अपने सभी ग्रुप व फ्रेंड्स को इसे शेयर करे ! 😃😀😀😀😀😀😀😀 *_Mahesh edition_* *_918920649618_* ##🤣जोक्स🤣
335 ने देखा
4 दिन पहले
#

📔 किस्से-कहानी

* #📔 किस्से-कहानी अनोखा इंसान* एक बादशाह की आदत थी, कि वह भेस बदलकर लोगों की खैर-ख़बर लिया करता था,एक दिन अपने वज़ीर के साथ गुज़रते हुए शहर के किनारे पर पहुंचा तो देखा एक आदमी गिरा पड़ा हैl बादशाह ने उसको हिलाकर देखा तो वह मर चुका था ! लोग उसके पास से गुज़र रहे थे, बादशाह ने लोगों को आवाज़ दी लेकिन कोई भी उसके नजदीक नहीं आया क्योंकि लोग बादशाह को पहचान ना सके । बादशाह ने वहां रह रहे लोगों से पूछा क्या बात है? इस को किसी ने क्यों नहीं उठाया? लोगों ने कहा यह बहुत बुरा और गुनाहगार इंसान है ।। बादशाह ने कहा क्या ये "इंसान" नहीं है? और उस आदमी की लाश उठाकर उसके घर पहुंचा दी, और उसकी पत्नी को लोगों के रवैये के बारे में बताया ।।। उसकी पत्नी अपने पति की लाश देखकर रोने लगी, और कहने लगी "मैं गवाही देती हूं मेरा पति बहुत नेक इंसान है"!!!! इस बात पर बादशाह को बड़ा ताज्जुब हुआ कहने लगा "यह कैसे हो सकता है? लोग तो इसकी बुराई कर रहे थे और तो और इसकी लाश को हाथ तक लगाने को भी तैयार ना थे?" उसकी बीवी ने कहा "मुझे भी लोगों से यही उम्मीद थी, दरअसल हकीकत यह है कि मेरा पति हर रोज शहर के शराबखाने में जाता शराब खरीदता और घर लाकर नालियों में डाल देता और कहता कि चलो कुछ तो गुनाहों का बोझ इंसानों से हल्का हुआ, और रात में इसी तरह एक बुरी औरत यानी वेश्या के पास जाता और उसको एक रात की पूरी कीमत देता और कहता कि अपना दरवाजा बंद कर ले, कोई तेरे पास ना आए घर आकर कहता ख़ुदा का शुक्र है,आज उस औरत और नौजवानों के गुनाहों का मैंने कुछ बोझ हल्का कर दिया, लोग उसको उन जगहों पर जाता देखते थे, मैं अपने पति से कहती "याद रखो जिस दिन तुम मर गए लोग तुम्हें नहलाने तक नहीं आएंगे,ना तुम्हारी अर्थी को कंधा देने आएंगे । वह हंसते और मुझसे कहते कि घबराओ नहीं तुम देखोगी कि मेरी अर्थी वक्त का बादशाह और नेक लोग उठाएंगे.... यह सुनकर बादशाह रो पड़ा और कहने लगा मैं बादशाह हूं, कल हम इसको नहलायेंगे, इसकी अर्थी को कंधा देंगे और इसका दाह संस्कार भी करवाएंगेl आज हम बज़ाहिर कुछ देखकर या दूसरों से कुछ सुनकर अहम फैसले कर बैठते हैं अगर हम दूसरों के दिलों के भेद जान जाएं तो हमारी ज़बाने गूंगी हो जाएं, किसी को गलत समझने से पहले देख लिया करें कि वह ऐसा है भी कि नहीं? और हमारे सही या ग़लत कहने से सही ग़लत नहीं हो जायेगा और जो ग़लत है वो सही नहीं हो जायेगा । हम दूसरों के बारे में फैसला करने में महज़ अपना वक़्त ज़ाया कर रहे हैं..बेहतर ये है कि अपना कीमती वक़्त किसी की बुराई करने की बजाय अच्छी सोच के साथ परोपकार में लगाएं !!! *किसीको गलत समझने से पहले एक बार* *उसके हालात समझने की कोशिश जरुर करों !* *हम सही हो सकते है* *लेकिन मात्र हमारे* *सही होने से* *सामने वाला गलत* *नही हो सकता..* *सच्चे और शुभचिंतक लोग*b हमारे जीवन में *सितारों* की तरह होते है ... वो *चमकते तो सदैव* ही रहते है परंतु दिखायी तभी देते है जब *अंधकार छा* जाता है ..!!🍂 *_Mahesh edition_* *_918920649618_*
6.6k ने देखा
4 दिन पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
अनफ़ॉलो
लिंक कॉपी करें
शिकायत करें
ब्लॉक करें
रिपोर्ट करने की वजह: