@615777
@615777

Vishal Tripathi

Aal Category Posts

बनारस के बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय (BHU) में कथित छेड़खानी के विरोध में और अन्य मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रही छात्राओं पर पुलिस के लाठीचार्ज पर विवाद अब काफी बढ़ गया है. इस मामले को लेकर अब अखिलेश यादव समेत कोंग्रेसी नेताओं ने आवाज उठाना भी शुरू कर दिया है. लेकिन अब इस मामले को लेकर बेहद चौंकाने वाले राज का  खुलासा हुआ है. इस खबर को पूरा जरूर पढ़ें, सभी जानकारियां सबूतों के साथ दी गयी हैं. किसने किया बीएचयू में दंगल ? मिली खबरों के मुताबिक बताया जा रहा है कि आम आदमी पार्टी के गुंडों ने आकर यूनिवर्सिटी में हंगामा किया. पीड़ित छात्रा को बीएचयू से कोई शिकायत नहीं है. दरअसल सालभर शांत रहने वाली बीएचयू में अचानक तब हंगामा शुरू हो गया, जब पीएम मोदी बनारस के दौरे पर आये. जिसके बाद विपक्ष ने मौके का फायदा उठाया और मीडिया ने भी उस मौके में चौका मारने का मौका नहीं छोड़ा. सबने मिलकर टीआरपी बढ़ने के लालच में विद्रोह की ऐसी आंधी चलाई, जिसमे सच तो पीछे ही छिप गया. बीएचयू में हो रहे दंगे के दौरान उस दंगे में ली गई कई फोटोज सामने आयी हैं, जिनमे आम आदमी पार्टी के नेता व् गुंडे साफ़ दिखाई दे रहे हैं. अब सवाल ये उठता है कि ये गुंडे यूनिवर्सिटी में पढ़ते तो हैं नहीं, तो फिर ये वहां क्या करने गए थे.देखिये आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता कपिल मिश्रा का ट्वीट, जिसमे उन्होंने पूरी साजिश की पोल खोली है. उन्होंने इस ट्वीट में बताया है कि किस तरह ये गुंडे बीएचयू में दंगे कर रहे है और इसके पीछे किसका हाथ है! क्या है इसके पीछे की पूरी साजिश ? दरअसल गुजरात समेत कुल पांच राज्यों में चुनाव होने को हैं. पीएम मोदी का विरोध करने के लिए विपक्ष मुद्दे की तालाश में बैचेन घूम रहा है. पीएम मोदी के विरोध के लिए पहले तो यूनिवर्सिटी में दंगल मचाया गया, छात्रों को आगे करके अपना उल्लू सीधा किया गया और उसके बाद प्रशांत भूषण समेत कई नेताओं ने बाकायदा झूठी ख़बरें चला कर मुद्दे को भड़काने की साजिश रची. ये सभी विरोधी पार्टी चुनाव में अपने फायदे को ध्यान में रखकर कर रहें है! दरअसल मोदी सरकार जिस तरह से देश के लिए रोहिंग्या मुस्लिमों को देश से निकालने पर अमादा हुई है और साथ ही अवैध बांग्लादेशियों को भी बाहर निकालने की कवायद शुरू की जा चुकी है. उससे कोंग्रेसी और वामपंथी बुरी तरह से बौखलाए हुए हैं. यही लोग तो इनके वोट बैंक हैं और इन्हे सोची समझी रणनीति के तहत देश के अलग-अलग राज्यों में बसाया गया था, इनको निकाल देंगे 2019 से पहले-पहले तो कांग्रेस व् अन्य पार्टियों का क्या होगा. एक तो पहले से ही नोटबंदी के कारण सारे काले कुबेर कंगाल हो गए हैं. पैसों से वोट खरीदना बंद हो चुका है. अब दूसरी तरफ बांग्लादेशियों और रोहिंग्याओं को निकालने से तो वोटबैंक पूरी तरह से धवस्त हो जाएगा. आपको बता दें कि सत्ता में आने के बाद से मोदी सरकार भारत में 2 करोड़ 33 लाख फर्जी राशन कार्ड रद्द कर चुकी है. ये फ़र्ज़ी राशन कार्ड भारत में वैध रूप से रह रहे बांग्लादेशियों के थे. नेताओं ने इनके राशन कार्ड बनवाये थे और बदले में इन्हे वोट देने की सेटिंग थी. इनसे सरकार को हर साल करोड़ों रुपयों का घाटा हो रहा था. बंगाल में तकरीबन 66 लाख 13 हजार 961 फ़र्ज़ी राशन कार्ड चल रहे थे, जिन्हें रद्द किया जा चुका है. रिपोर्ट के अनुसार सबसे ज्यादा फर्जी राशन कार्ड तो ममता के बंगाल में ही रद्द किये जा चुके हैं. अब जल्द ही सभी अवैध-बांग्लादेशी और रोहिंग्या बाहर होंगे. ऐसे में वामपंथियों, कोंग्रेसियों में छटपटाहट मची हुई है और उसी का फल देखने को मिल रहा है.
#

BHU लाठीचार्ज

BHU लाठीचार्ज - ShareChat
850 ने देखा
1 साल पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
अनफ़ॉलो
लिंक कॉपी करें
शिकायत करें
ब्लॉक करें
रिपोर्ट करने की वजह: