@andy0552
@andy0552

Sameera

मैत्री, मस्ती आणि शेअरचॅट 👌

#

😹फनी जोक्स

पत्ता-पत्ता बूटा-बूटा हाल हमारा जाने है जाने न जाने गुल ही न जाने, बाग़ तो सारा जाने है लगने न दे बस हो तो उस के गौहर-ए-गोश के बाले तक उस को फ़लक चश्म-ए-मै-ओ-ख़ोर की तितली का तारा जाने है आगे उस मुतक़ब्बर के हम ख़ुदा ख़ुदा किया करते हैं कब मौजूद् ख़ुदा को वो मग़रूर ख़ुद-आरा जाने है आशिक़ सा तो सादा कोई और न होगा दुनिया में जी के ज़िआँ को इश्क़ में उस के अपना वारा जाने है चारागरी बीमारी-ए-दिल की रस्म-ए-शहर-ए-हुस्न नहीं वर्ना दिलबर-ए-नादाँ भी इस दर्द का चारा जाने है क्या ही शिकार-फ़रेबी पर मग़रूर है वो सय्यद बच्चा त'एर उड़ते हवा में सारे अपनी उसारा जाने है मेहर-ओ-वफ़ा-ओ-लुत्फ़-ओ-इनायत एक से वाक़िफ़ इन में नहीं और तो सब कुछ तन्ज़-ओ-कनाया रम्ज़-ओ-इशारा जाने है क्या क्या फ़ितने सर पर उसके लाता है माशूक़ अपना जिस बेदिल बेताब-ओ-तवाँ को इश्क़ का मारा जाने है आशिक़ तो मुर्दा है हमेशा जी उठता है देखे उसे यार के आ जाने को यकायक उम्र दो बारा जाने है रख़नों से दीवार-ए-चमन के मूँह को ले है छिपा य'अनि उन सुराख़ों के टुक रहने को सौ का नज़ारा जाने है तशना-ए-ख़ूँ है अपना कितना 'मीर' भी नादाँ तल्ख़ीकश दमदार आब-ए-तेग़ को उस के आब-ए-गवारा जाने है
104 जणांनी पाहिले
15 तासांपूर्वी
इतर अॅप्स वर शेअर करा
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करा
काढून टाका
Embed
मला ही पोस्ट रिपोर्ट करावी वाटते कारण ही पोस्ट...
Embed Post
इतर अॅप्स वर शेअर करा
Facebook
WhatsApp
अनफॉलो
लिंक कॉपी करा
रिपोर्ट करा
ब्लॉक करा
रिपोर्ट करण्याचे कारण..