@fone1
@fone1

मोटू पत्रकार

सीधी बात नो बकवास

मौजपुर में बिगड़ा माहौल, प्रदर्शनकारियों पर पुलिस ने दागे आंसू गैस के गोले नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और NRC के विरोध में दिल्‍ली के मौजपुर इलाके में रविवार को तनावपूर्ण स्‍थिति हो गई. दरअसल सीएए के विरोध में प्रदर्शनकारी और सीएए के समर्थन में प्रदर्शन करने वाले लोग आमने- सामने आ गए. दोनों गुटों की ओर से पत्‍थबाजी शुरू हो गई. इसके बाद वहां अफरातफरी मच गई. घटना पर मौजूद दिल्ली पुलिस ने हालात पर काबू पाने के लिए आंसू गैस के गोले दागे. वहीं मौजपुर इलाके में तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए दिल्ली मेट्रो ने मौजपुर-बाबरपुर मेट्रो स्टेशन के प्रवेश और निकास द्वार बंद कर दिए हैं. मौजपुर में लोग एक दूसरे पर पत्‍थर चला रहे हैं. तस्वीरों में पूरी सड़क पर ईंट और पत्‍थर के टुकड़े पड़े दिखाई दे रहे हैं. पुलिस वहां लोगों को समझाने का प्रयास कर रही है. पुलिस ने स्‍थितिपूर्ण करने के लिए आंसू गैस का गोला छोड़ा है. हालांकि लोग पत्‍थरबाजी रहे रहे हैं.
#

🚫नागरिकता कानून का विरोध जारी

🚫नागरिकता कानून का विरोध जारी  - ShareChat
26.8k ने देखा
8 घंटे पहले
वजाहत हबीबुल्‍लाह ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल किया हलफनामा, अफरा-तफरी के लिए पुलिस को ठहराया जिम्‍मेदार दो महीने से ज्‍यादा समय से देश की राजधानी दिल्‍ली के शाहीन बाग (Shaheen Bagh) इलाके में चल रहे धरना-प्रदर्शन के मामले में पूर्व मुख्‍य सूचना आयुक्‍त वजाहत हबीबुल्‍लाह ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल किया है. उन्‍होंने धरनास्‍थल पर पैदा हुई अफरा-तफरी के हालात के लिए दिल्‍ली पुलिस को जिम्‍मेदार ठहराया है. पूर्व CIC ने सरकार को भी कठघरे में खड़ा किया है. प्रदर्शनकारी संशोधित नागरिकता कानून (Citizenship Amendment Act) और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (National Register of Citizens) के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं. शाहीन बाग प्रोटेस्ट के मामले में 24 फरवरी को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होनी है. हलफनामे में उन्‍होंने कहा कि सरकार की ओर से प्रदर्शनकारियों से बातचीत को लेकर कोई पहल नहीं की गई. वजाहत हबीबुल्‍लाह ने सड़क को बंद करने को लेकर हलफनामा दाखिल किया है. सुप्रीम कोर्ट ने संजय हेगड़े और साधना रामचंद्रन को शाहीन बाग प्रोटेस्ट को दूसरी जगह शिफ्ट कराने के लिए वार्ताकार नियुक्त किया है, साथ ही वजाहत हबीबुल्‍लाह को वार्ताकारों का सहयोगी नियुक्त किया है.
#

✊शाहीन बाग: SC में हलफनामा

✊शाहीन बाग: SC में हलफनामा  - ShareChat
30.2k ने देखा
12 घंटे पहले
चौथे दिन शाहीन बाग पहुंचीं साधना रामचंद्रन, प्रदर्शनकारियों ने रखी शर्त नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ शाहीन बाग में पिछले दो महीनों से प्रदर्शन चल रहा है. प्रदर्शन के कारण बंद रास्ते को खुलवाने के लिए सुप्रीम कोर्ट की ओर से नियुक्त वार्ताकार साधना रामचंद्रन शनिवार को चौथी दिन शाहीन बाग में प्रदर्शकारियों से बातचीत करने पहुंचीं. बातचीत के दौरान, प्रदर्शनकारियों ने एक तरफ की सड़क खोलने के लिए कुछ शर्तें रखी हैं.     प्रदर्शनकारियों की मांग है कि उन्हें 24 घंटे सुरक्षा मुहैया कराई जाए और सुप्रीम कोर्ट इस संबंध में आदेश जारी करे. प्रदर्शनकारियों ने कहा, "उन्हें मीडिया और पुलिस पर भरोसा नहीं है, हम चाहते हैं कि सुप्रीम कोर्ट हमारी सुरक्षा की जिम्मेदारी ले."   प्रदर्शनकारियों की मांग है कि शाहीन बाग और जामिया के लोगों के खिलाफ दर्ज केस को वापस लिया जाए. उन्होंने कहा कि पिछले दो महीनों में हुई हर घटना की जांच होनी चाहिए. वे चाहते हैं कि प्रदर्शन स्थल की सुरक्षा के लिए स्टील शीट का उपयोग किया जाए.
#

✊शाहीन बाग: प्रदर्शनकारियों की शर्त

✊शाहीन बाग: प्रदर्शनकारियों की शर्त - CS - ShareChat
33.9k ने देखा
1 दिन पहले
सोनभद्र में मिला हजारों टन सोना, बदल जाएगी भारत की किस्मत उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में लगभग 3,000 टन सोना मिला है, जो भारत के पास मौजूदा सोने के भंडार का करीब पांच गुणा है। भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण में जिले की इन पहाड़ियों में तीन हजार टन से ज्यादा सोना दबे होने का दावा किया है। सोनभद्र की सोन पहाड़ी में बड़ी मात्रा में सोना पूरे विश्व की निगाहों में चमक उठा है। सोशल मीडिया पर सोनभद्र ट्रेंड कर रहा है। हर कोई खुश भी है और अचंभित भी। बता दें कि शुक्रवार को जिला खनन अधिकारी के के राय ने बताया कि सोन पहाड़ी और हरदी इलाकों में सोने के भंडार मिले है।उन्होंने बताया कि सोने के भंडार का पता लगाने का काम पिछले दो दशक से चल रहा था। उन्होंने बताया कि इन ब्लॉक की ई-टेंडरिंग के माध्यम से नीलामी की प्रक्रिया जल्द ही शुरू होगी। जानकारी के मुताबिक, सोन पहाड़ी में करीब 2943.26 टन और हरदी ब्लॉक में 646.16 टन सोना मिला है। राय ने बताया कि सोने के अलावा इलाके में अन्य खनिज पदार्थ भी मिले हैं। विश्व स्वर्ण परिषद के अनुसार, भारत के पास इस समय 626 टन सोने का भंडार है। जबकि सोनभद्र में पाया गया सोने का नया भंडार इसका करीब पांच गुणा है। इसकी अनुमानित कीमत करीब 12 लाख करोड़ रुपए है। आपको शायद ये जानकर हैरानी होगी कि इनका संबंध रामायण काल से है। सोनभद्र में जिन दो पहाड़ियों पर सोने का भंडार मिला है, वहां इसकी मौजदूगी को लेकर सालों से चर्चाएं चल रही थीं। हरदी ब्लॉक में पिछले चार सालों से सोना पाए जाने की खबर राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियां बटोरे हुए थी, जबकि आस्था का केंद्र रहे सोन पहाड़ी के इलाके में उम्मीद से ज्यादा सोने का भंडार मिलने की बात सामने आई है। बता दें कि सोन पहाड़ी को शिव पहाड़ी के नाम से भी जाना जाता है। इस पहाड़ी पर सैकड़ों टन खजाना छिपे होने की बात पर वर्षों से कहानी-किस्से सुनाए जाते आए हैं। खनिज स्थलों की जियो टैगिंग के लिए सात सदस्यीय टीम गठित की गई, जिसकी रिपोर्ट 22 फरवरी यानी आज लखनऊ को सौंपी जाएगी। सोनभद्र जिले में करीब 3,350 टन (अनुमानित मात्रा) सोना मिलने की बात सामने आई है, जो मात्रा भारत के स्वर्ण भंडार का करीब पांच गुणा ज्यादा है। विश्व स्वर्ण काउंसिल की रिपोर्ट के मुताबिक, भारत के पास अभी 618.2 टन सोने का भंडार है। जो कुल विदेशी भंडार में सोने का 6.6 फीसदी हिस्सा है। इसके लिहाज से स्वर्ण भंडारण के मामले में भारत विश्व में 9वें नंबर पर है। अब सोनभद्र में इतनी मात्रा में सोना मिलने से भारत की स्थिति और ज्यादा मजबूत होने की उम्मीद जताई जा रही है। गौरतलब है कि पिछले पंद्रह साल से  जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ़ इंडिया यानी जीएसआई की टीम  इस मामले में सोनभद्र में काम कर रही थी। आठ साल पहले ही टीम ने सोनभद्र की इस ज़मीन के अंदर सोने के ख़जाने की पुष्‍टि कर दी थी। अब इसकी सूचना सामने आने के बाद यूपी सरकार ने  इस टीले को बेचने के लिए ई-नीलामी प्रक्रिया शुरू कर दी है।  ई-टेंडरिंग को हरी झंडी मिलने के बाद खनन की अनुमति मिलेगी।
#

💰सोनभद्र में सोना🤑

💰सोनभद्र में सोना🤑 - ShareChat
95.9k ने देखा
1 दिन पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
अनफ़ॉलो
लिंक कॉपी करें
शिकायत करें
ब्लॉक करें
रिपोर्ट करने की वजह: