@nadan
@nadan

नित्यानन्द तिवारी

फॉलो करें ज्यादा से ज्यादा लोग 🙏🚩

#

नए ट्रैफिक नियम

ये जो नया मोटर व्हीकल एक्ट आया है और अब लागू हुआ है , मूलतः ये 2016 में ही आने वाला था । गडकरी ने प्रस्ताव बना के जब मोदी जी के सामने रखा तो मोदी बोले ........ क्या चाहते हो ??????? 2019 में वापस आना है या नही ??????? नाली में लेटे हुए सूअर को नाली से निकालोगे तो बुरा मान जाएंगे और 19 में हरवा देंगे सब ....... Lets go Slow and Steady........मुझे अच्छी तरह याद है 2016 में इसपे चर्चा हुई थी ........ अखबारों में भी आया था ...... उस प्रस्ताव में तो जुर्माने के rate आज से भी ज़्यादा टाइट थे । फिर गुजरात के कुछ शहरों में एक प्रयोग हुआ .......... शायद अहमदाबाद में ........ पूरे शहर में कैमरा लगा दिए गए । और शहर के लोगों को बता दिया गया कि भैया कायदे में रहो और सड़क पे कायदे से चलो ........ Traffic नियमों का पालन करो ........ वरना अबकी चालान पुल्स वाला नही बल्कि कैमरा और technology करेगी ........कोई सुनवाई नही होगी ....... नियत दिन से वो अभियान शुरू हुआ ........ दो हफ्ते में ही 27000 से ज़्यादा चालान हो गए ........ हाहाकार मचा ....... Public Outrage हुई ....... सरकार दबाव में आ गयी ........ आदेश रद्द हुआ ........ मामला ठंडे बस्ते में चला गया ........ 2019 में मोदी जी ने अब 303 सीट जीत के इसे लागू करने की हिम्मत दिखाई है । बहुत से लोग कह रहे हैं पुलिस ज़्यादती बढ़ेगी , वसूली होगी , पुल्स का तो 8वां वेतन आयोग लग गया ........ original आईडिया Technology वाला ही है और वही चलेगा ......… सरकार बहुत जल्दी पुल्स के हाथ से चालान करने का अधिकार छीन लेगी ........ आपको भी कोई ज़हमत नही उठानी होगी ....... कोई आपको रोकेगा टोकेगा भी नही ........ साल दो साल वर्तमान व्यवस्था चलेगी । 95% लोग तो इसी में सुधर जाएंगे । जो एकदम ढीठ होंगे उन्हें कैमरा सुधार देगा ......... Technology सुधार देगी ....... NHs के Toll plaza पे लगने वाली ये लंबी लंबी लाइनें भी अब जल्दी ही बीते दिनों की बात हो जाएगी । सरकार ने Fasttag को अनिवार्य कर दिया है ........ अगले 3 महीने में अपनी गाड़ी में HSRP बोले तो High Security Registration Plate लगवा लीजिये ....... इसमे आपकी नंबर प्लेट पे एक इलेक्ट्रॉनिक sensor लगा होता है जिसे सड़क किनारे लगे electronic उपकरण पढ़ सकते है और जिसे आसमन से satellite भी सरकार देख सकती है ....... Road पे चलने के लिए ये HSRP और Fasttag अनिवार्य हो जाएगा । अब आप बिंदास चलिए । आप जितनी दूरी Toll Road पे तय करेंगे , आपके खाते से उतना पैसा अपने आप कट जाएगा ....... 1 Nov के बाद आपकी गाड़ी में यदि Fasttag नही होगा , आपकी गाड़ी road पे नही चल पाएगी । फिर उसी HSRP और Fasttag से ही सरकार आपके Road Behaviour को भी regulate करेगी , आप कितनी तमीज़ से गाड़ी चलाते हैं रोड पे , किस स्पीड से चलाते हैं , कैसे Overtake करते हैं , highway पे किस lane में चलते हैं , कितना Horn बजाते हैं , अस्पताल स्कूल के पास भी बजाते हैं ........ ambulance और Emergency Vehicles को जगह नही देते ????????? आप बिलकुल चिंता मत कीजिये , पुल्स की चिंता मत कीजिये ....... आपका इलाज बहुत जल्दी Technology करेगी ......... आपको Technology के अलावा कोई नही सुधार सकता । दरअसल ये देश आज तक तो भगवान भरोसे ही चलता रहा । चलो कोई तो हुआ जो अब इसकी सुध ले रहा है । बहुत जल्दी सब कुछ ठीक हो जाएगा ऐसा मेरा विश्वास है । #नए ट्रैफिक नियम
108 ने देखा
15 दिन पहले
#

😄 हंसिये और हंसाइए 😃

स्वास्थ्य सबसे कीमती धन है। 👇 रोज़ अपने स्वास्थ को बेहतर बनाने पर ध्यान दें.. 1- सुबह जल्दी 9 बजे उठ जायें 2- शौचालय तक पैदल चलें 3- नाश्ते में मक्खन ब्रेड, कचौरी और जलेबी खाने के बाद एक लोटा चाय लें 4- इतना करने के बाद थकान होना लाजमी है इसलिए 2 घंटा सो लें. 5- अरे सोते ही रहेंगे क्या लंच नही करना. 6- हाँ तो लंच में दाल चावल, रोटी, दही, सलाद, पापड़, चटनी अचार और कुछ मीठा जैसे घेवर लें. 7- आयुर्वेद के अनुसार लंच के बाद थोड़ी देर सो जायें (लगभग 3 घंटे ) 8- अधिक देर न सोये नहीँ तो शाम की चाय और समोसे का समय निकल जायेगा. 9- अब डिनर में कुछ हल्का लें जैसे दाल मक्खनी, कड़ाई पनीर दम आलू और बटर नान with एक्सट्रा मक्खन और एक आइस क्रीम.. 10- दोस्तो! रात के खाने के बाद टहलना बहुत ही ज़रूरी है इसलिए अपने बैड का एक चक्कर लगायें और चादर ओढ़ कर सो जाएँ..! 😂😂😂😂 { चेतावनी - इस विषय को संज्ञान में न लेते हुए सिर्फ प्रहसन ही समझे और हा पोस्ट अच्छा लगे तो हमे फॉलो करना कत्तई न भूले } #😄 हंसिये और हंसाइए 😃 #🌶तीख़ी मिर्च #👬दोस्ती-यारी
97 ने देखा
18 दिन पहले
#

😏 रोचक तथ्य

गोत्र क्या है..? जिनके गोत्र अज्ञात हैं , उनका क्या होगा ? 〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️ आज से लगभग ढाई वर्ष पूर्व किसी Facebook User ने हमसे प्रश्न किया था की यदि माता-पिता में से पिता विधर्मी (अलग धर्म से) हो तो संतानों का गोत्र क्या होगा ? इस प्रश्न ने मुझे बहुत प्रभावित किया था और मैंने इसका विस्तृत व्याख्यात्मक उत्तर दिया था । वो तो अब मुझसे संपर्क में हैं नहीं किन्तु उसका प्रश्न वर्तमान परिप्रेक्ष्य में परम् प्रासंगिक हैं । मुझे घोर आश्चर्य तब होता हैं जब सनातन धर्मानुयायियों को इतने गम्भीर तकनीकी प्रश्न पर निरुत्तर पाता हूँ । गोत्र मानवमात्र का होता हैं ; चाहे उसकी मान्यता गोत्रों में हो या चाहे न हो , चाहे वो सनातन धर्मानुयायी हो या न हो । आज इस लेख के माध्यम से मैं “गोत्र” इस विषय को स्पष्ट करने का प्रयत्न करूंगा। सुविधा एवम् सरलता की दृष्टि से पोस्ट को मैंने दो भागों में बांटा है :- 1) गोत्र होते क्या हैं ? 2) जिनके गोत्र अज्ञात हैं , उनका क्या होगा ? 1. गोत्र क्या हैं ? 〰️〰️🔸〰️〰️ गोत्र मोटे तौर पर उन लोगों के समूह को कहते हैं जिनका वंश एक मूल पुरुष पूर्वज से अटूट क्रम में जुड़ा है । गोत्र जिसका अर्थ वंश भी है , यह एक ऋषि के माध्यम से शुरू होता है और हमें हमारे पूर्वजों की याद दिलाता है और हमें हमारे कर्तव्यों के बारे में बताता है । व्याकरण के प्रयोजनों के लिये पाणिनि में गोत्र की परिभाषा है 'अपात्यम पौत्रप्रभ्रति गोत्रम्' (४.१.१६२), अर्थात 'गोत्र शब्द का अर्थ है बेटे के बेटे के साथ शुरू होने वाली (एक ऋषि की) संतान् । गोत्र, कुल या वंश की संज्ञा है जो उसके किसी मूल पुरुष के अनुसार होती है । महाभारत के शान्तिपर्व (296-17, 18) में वर्णन है कि मूल चार गोत्र थे ; अंगिरा , कश्यप , वशिष्ठ और भृगु । बाद में आठ हो गए जब जमदन्गि, अत्रि, विश्वामित्र तथा अगस्त्य के नाम जुड़ गए । एक अन्य मान्यता है कि प्रारंभ में सात गोत्र थे कालांतर में दूसरे ऋषियों के सानिध्य के कारण अन्य गोत्र अस्तित्व में आये । *मेरे विचार*- एक मान्यता के अनुसार सात पीढ़ी बाद सगापन खत्म हो जाता है अर्थात सात पीढ़ी बाद गोत्र का मान बदल जाता है और आठवी पीढ़ी के पुरुष के नाम से नया गोत्र आरम्भ होता है (हम इस मान्यता के प्रबल समर्थक हैं) । हम गोत्र को Scientific व्यवस्था मानते हैं एवम् जीवन के (और जीवन के बाद भी) प्रत्येक क्षेत्र में “गोत्रों” का व्यापक महत्त्व स्वीकार करते हैं । व्यावहारिक रूप में "गोत्र" से आशय पहचान से है , जो ब्राह्मणों के लिए उनके ऋषिकुल से होती है । 2. जिनके गोत्र अज्ञात हैं , उनका क्या होगा ? 〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️ प्रत्येक मानव का गोत्र होता हैं , गोत्र एक Scientific व्यवस्था हैं । हिन्दू , मुस्लिम , ईसाई , अधर्मी , विधर्मी इन सबके गोत्र होते हैं – चाहे माने या न माने । कल्पना कीजिए एक बच्चा जिसे अपने माता-पिता के विषय में कुछ नहीं मालूम , उसका क्या होगा ? - उसे “कश्यप गोत्रीय” अर्थात “कश्यप गोत्र” का माना जाएगा । इसकी शास्त्रोक्त व्यवस्था देखिए :- “गोत्रस्य त्वपरिज्ञाने काश्यपं गोत्रमुच्यते। यस्मादाह श्रुतिस्सर्वाः प्रजाः कश्यपसंभवाः।।“ (हेमाद्रि चन्द्रिका) जिसका गोत्र अज्ञात हो उसे “कश्यप गोत्रीय" (कश्यप गोत्र का) माना जाएगा और यह एक शास्त्र सम्मत व्यवस्था है अर्थात् पूर्णतः निर्दोष व्यवस्था है। 〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️ { कृपया फॉलो करना न भूलें } #😏 रोचक तथ्य #🙏 धर्म-कर्म
123 ने देखा
18 दिन पहले
#

👍प्रेरणादायक- Motivation✌

दिल्ली यूनिवर्सिटी में काउंसिलिंग के समय एडमिशन फीस 5 रुपया उन दिनों था!! एक कमरे के किराये के घर में मां बाप और 7 बहनों के साथ रहने वाला एक गरीब लड़का अपने ग्रेजुएशन में काउंसिलिंग के समय से 1 घण्टा लेट पहुँचा...हाँफते हुए वो काउंटर के पास गया तो समय निकल चुका था... काउंटर से कर्मचारी पूछा..."अभी तक कहा थे, समय पे नही आ सकते ,क्यों लेट हुवा?"... लड़के ने जवाब दिया.."सर किराये के पैसे नही थे इसलिए सुबह से ही पैदल चल के आ रहा हूँ".. बहुत रिक्वेस्ट के बाद किसी कॉन्सिलिंग के लिए डॉक्यूमेंट ले लिया जाता हैं, और कुछ देर पास लड़का फिर रिक्वेस्ट करता हुआ वहां गिड़गिड़ाता हैं..."सर बाकी कल जमा कर देंगे, हमारी ओरिजिनल डॉक्यूमेंट आप रख लीजिए,हम कल काउंटर खुलने से पहले ही कर देंगे जमा".... कर्मचारी:- नही नही!! आज ही रसीद कटेगी, तो आज ही करो नही तो मैं कुछ नही कर सकता.... लड़का फिर गिड़गिड़ाता हैं ....कि उसके पीछे से कोई कंधे पे हाथ रख के ...काउंटर पे कर्मचारी से सवाल करता हैं...."क्यों परेसान कर रहे हो इसे, और इतनी बतमीजी से कौन कहा बात करने को?? अरे अरुण जी, 5 रुपया फीस हैं, और 3 रुपया ही जमा कर रहा हैं ये लड़का,हम कैसे रसीद काट दे!! तत्कालीन छात्र संघ अध्यक्ष अरुण जेटली ने उस लड़के से उसकी स्तिथि जानी ....और फिर बाकी 2 रुपया जेब से निकल के उस लड़के की फीस जमा कर दी!! लड़का काउंसिलिंग पूरी करने के बाद थोड़ी दूर खड़े अरुण जिटल को थैंक-यू बोलने गया....जेटली ने कहा अब तो तुम्हारे पास चाय पीने के भी पैसे नही होंगे....आओ मैं तुम्हे चाय पिलाने ले चलता हूँ!! वो लड़का, आज डीडीसी एसोसिएशन का प्रेजिडेंट , न्यूज़ ब्राडकास्टिंग एसोसिएशन चेयरपर्सन और इंडिया टीवी का मालिक #रजत_शर्मा हैं!! महान व्यक्तित्व मरने के बाद भी दुसरो की जिंदगियों में जिंदा रहता हैं, एसे महान व्यक्तित्व स्व० अरुण जेटली जी को नमन!! #👍प्रेरणादायक- Motivation✌
239 ने देखा
24 दिन पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
अनफ़ॉलो
लिंक कॉपी करें
शिकायत करें
ब्लॉक करें
रिपोर्ट करने की वजह: