@raaz1613
@raaz1613

A.S

मुझे ShareChat पर फॉलो करें! AAP Ki MARZI

#

kavita

तुम्हारा मिलन तुम मिले, प्राण में रागिनी छा गई! भूलती-सी जवानी नई हो उठी, भूलती-सी कहानी नई हो उठी, जिस दिवस प्राण में नेह-बंशी बजी, बालपन की रवानी नई हो उठी; कि रसहीन सारे बरस रसभरे हो गये— जब तुम्हारी छटा भा गई। तुम मिले, प्राण में रागिनी छा गई! घनों में मधुर स्वर्ण-रेखा मिली नयन ने नयन रूप देखा, मिली— पुतलियों में डुबा निज नजर की कलम नेह के पृष्ठ को चित्रलेखा मिली; बीतते-से दिवस लौट कर आ गये बालपन ले जवानी सँभल आ गई। तुम मिले, प्राण में रागिनी छा गई! तुम मिले तो प्रणय पर छटा छा गई! चुम्बनों, साँवली-सी घटा छा गई, एक युग, एक दिन, एक पल, एक क्षण पर गगन से उतर चंचला, आ गई! प्राण का दान दे, दान में प्राण ले, अर्चना की अधर चाँदनी छा गई। तुम मिले, प्राण में रागिनी छा गई! #kavita
112 ने देखा
2 दिन पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
अनफ़ॉलो
लिंक कॉपी करें
शिकायत करें
ब्लॉक करें
रिपोर्ट करने की वजह: