@thekhabri007
@thekhabri007

खबरीलाल 🤓Entertainment

देश 🇮🇳 दुनिया 🌍की👉ट्रेडिंग न्यूज़ के लिए फॉलो

#😱पूर्वोत्तर राज्यों में कर्फ्यू #खबरीलाल entertainment news #🚫CAB का भारी विरोध जारी #🌐 राष्ट्रीय-अंतराष्ट्रीय खबरें #📰 समाचार एवं न्यूज़ पेपर क्लिप नई दिल्ली/गुवाहाटी. नागरिकता कानून के विरोध में पूर्वोत्तर के राज्यों में 6 दिन से उग्र प्रदर्शन जारी है। असम में शनिवार को कर्फ्यू में सुबह 9 बजे से 4 बजे तकढील दी गई। हालांकि, इंटरनेट सेवा बंद रहेगी। वहीं, ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन (आजसू) ने 3 दिन के लिए सत्याग्रह का ऐलान किया। नगा स्टूडेंड्स फेडरेशन (एनएसएफ) ने शनिवार को 6 घंटेके लिए बंद बुलाया है। असम में हजारों मुस्लिमों ने नागरिकता कानून के विरोध में शुक्रवार को रैली निकाली। वहीं, दिल्ली पुलिस ने जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के 42 छात्रों को हिरासत में लिया। पूर्वोत्तर में जारी विरोध के चलते अमेरिका, ब्रिटेन और इजराइल ने अपने नागरिकों के लिए ट्रैवल एडवाइजरी जारी की है। अमेरिकी एडवाइजरी में कहा गया है कि उसने अस्थाई तौर पर असम की आधिकारिक यात्रा भी स्थगित कर दी है। रेलवे ने यात्रियों के लिए चलाई स्पेशल ट्रेन गुवाहाटी में फंसे पर्यटकों औरयात्रियों के लिए रेलवे ने स्पेशल ट्रेनें चलाई हैं। यह गाड़ियां यात्रियों को राज्य के अन्य सुरक्षित स्टेशनों तक पहुंचाएंगी, जहां से वह अपने घर के लिए जा सकेंगे। उत्तर-पूर्वी सीमांत रेलवे के जनसम्पर्क अधिकारी ने यह जानकारी दी। शुक्रवार को भी फुर्कटिंग और डिब्रूगढ़ के बीच स्पेशल ट्रेनचलाई गई थी। इंटरनेशनल इवेंट्स पर भीविरोध का असर पूर्वोत्तर के राज्यों में जारी उग्र विरोध के चलते जापान के पीएम शिंजो आबे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 15-16 दिसंबर को गुवाहाटी में होने वाली मुलाकात टाल दी गई है। बांग्लादेश के विदेश मंत्री एके अब्दुल मोमिन, गृह मंत्री असदुज्जामन खान ने भी भारत दौरा रद्द कर दिया है। 5 राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने कहा- कानून लागू नहीं होने देंगे गृह मंत्री अमित शाह का शिलॉन्ग दौरा भी रद्द कर दिया गया है। उन्हें रविवार को यहां एक कार्यक्रम में शामिल होना था। पश्चिमबंगाल, पंजाब, केरल, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्रियों ने कहा है कि वे अपने राज्य मेंनागरिकता कानून को लागू नहीं करेंगे। इस पर केंद्र के एक अधिकारी ने न्यूज एजेंसी से कहा कि केंद्रीय कानून को लागू करने से राज्य इनकार नहीं कर सकते। छात्र संगठन और तृणमूल कानून के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट गए भाजपा दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु, कोलकाता, गुवाहाटी और लखनऊ में 14-18 दिसंबर के बीच नागरिकता संशोधन कानून को लेकर जागरूकता अभियान चलाएगी। उधर, आंदोलन की अगुवाई कर रहे छात्र संगठन ऑल असम स्टूडेंट यूनियन ने कानून के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है। संगठन के मुख्य सलाहकार समुज्जल भट्टाचार्य ने कहा कि भाजपा सरकार ने असम के लोगों के साथ धोखा किया। तृणमूल सांसद महुआ मित्रा ने सुप्रीम कोर्ट में नागरिकता कानून को चुनौती दी है। त्रिपुरा-मेघालय में इंटरनेट सेवाएं अभी भी बंद त्रिपुरा के ज्यादातर हिस्सों में हालात सुधरते दिखाई दे रहे हैं, लेकिन शुक्रवार को नवगठित गैर आदिवासी संघ बंगाली ओइकया मंच ने 48 घंटे का बंद का ऐलान किया है। यहां तीसरे दिन भी टेलीफोन और इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगाई गई है। मेघालय में भी मोबाइल और इंटरनेट सर्विस पर रोक जारी है। शिलॉन्ग में अभी भी हालात तनावपूर्ण हैं।
#

😱पूर्वोत्तर राज्यों में कर्फ्यू

😱पूर्वोत्तर राज्यों में कर्फ्यू - नागरिकता कानून / असम में कयूं में 4 बजे तक की ढील , छात्र संगठनों ने 3 दिन के सत्याग्रह का ऐलान किया असम के कामरूप में नागरिकता कानून का उग्र विरोध किया गया । - ShareChat
213 ने देखा
1 दिन पहले
#🇮🇳 भारत बचाओ रैली #खबरीलाल entertainment news #📰 समाचार एवं न्यूज़ पेपर क्लिप #🌐 राष्ट्रीय-अंतराष्ट्रीय खबरें #🔐 ग्रुप: संघर्ष न्यूज ग्रुप नई दिल्ली.यहांके रामलीला मैदान में शनिवार को कांग्रेस ने मोदी सरकार के खिलाफ ‘भारत बचाओ’ रैली की। इसमें कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा और डॉ. मनमोहन सिंह समेत कई वरिष्ठ नेता शामिल हुए। रैली मेंदेश की गिरती अर्थव्यवस्था, बढ़ती बेरोजगारी जैसे मुद्देनिशाने पर रहे। रैली में राहुल गांधी काफी तल्ख नजर आए। उन्होंने कहा कि ये देश पीछे नहीं हटता। मुझे कहते हैं कि सही बात बोलने के लिए माफी मांगूं। भाइयो-बहनो, मेरा नाम राहुल सावरकर नहीं, राहुल गांधी है। मैं सच्चाई के लिए कभी माफी नहीं मांगूंगा। और न कोई कांग्रेस वाला माफी मांगेगा। माफी नरेंद्र मोदी को देश से मांगनी है। उनके असिस्टेंट अमित शाह को माफी मांगनी है। शुक्रवार को लोकसभा में राहुल के ‘रेप इन इंडिया’ बयान पर हंगामा हुआ। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी समेत कई महिला सांसदों ने इस पर राहुल से माफी मांगने को कहा। राहुल ने बयान दिया कि वे माफी नहीं मांगेगे।यह भी कहा कि मोदीजी ने कहा कि मेक इन इंडिया होगा। हमें लगा कि मेक इन इंडिया दिखाई देगा। आज जब हम अखबार खोलते हैं तो हमें रेप इन इंडिया दिखाई देता है। राहुल ने झारखंड के गोड्डा में गुरुवार को ‘रेप इन इंडिया’ वाला बयान दिया था। ‘मोदी है तो मुमकिन है’ प्रियंका ने कहा कि हर बस स्टॉप, हर अखबार में दिखता है कि ‘मोदी है तो मुमकिन है।’ असलियत यह है कि भाजपा है तो 100 रु किलो प्याज है। भाजपा है तो 45 साल में सबसे ज्यादा बेरोजगारी मुमकिन है। भाजपा है तो 4 करोड़ नौकरियां नष्ट होना मुमकिन है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका ने यह भी कहा,‘‘न्याय की लड़ाई लड़ने से बड़ी देशभक्ति कोई नहीं है। आज जिस दौर से हमारा देश गुजर रहा है, हर तरफ अन्याय है। गरीबों पर मुसीबतें लादी जाती हैं और बड़े उद्योगपतियों के कर्ज माफ किए जाते हैं। ऐसे कानून बनाए जाते हैं, जिससे लाखों लोग बंदी की तरह रखे जाते हैं। आज की लड़ाई में जो नहीं खड़ा होगा, वो कायर कहलाएगा। भारतकी रखवाली करना,स्वतंत्रता, स्वाभिमान और स्वाधीनता का हक रखना हम सबकी जिम्मेदारी है। आप सबकी जिम्मेदारी है। इस जिम्मेदारी को निभाने के लिए कांग्रेस के मेरे कार्यकर्ता भाइयों-बहनों की है। इस देश को हबचाने के लिए यह भावना लेकर आए हैं। इसके लिए धन्यवाद है।’’ ‘मंत्रियों के पास कोई नीति नहीं’ पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने कहा, ‘‘मोदी सरकार ने अपने दूसरे कार्यकाल के केवल 6 महीने में ही देश की अर्थव्यवस्था ध्वस्त कर दी। उनके मंत्रीपूरी तरह से तर्कहीन हो चुके हैं। कल वित्त मंत्री ने कहा कि सब ठीक है। हम यानी भारत दुनिया में शीर्ष पर है। सिर्फ एक बात उन्होंने नहीं कही कि अच्छे दिन आने वाले हैं।’’ रैली के जरिए राहुल के लिए माहौल बनाने की कोशिश सूत्रों के मुताबिक, टीम राहुल की कोशिश है कि रैली में एक बार फिर राहुल को प्रोजेक्ट और उनके लिए माहौल तैयार करने की योजना है। लोकसभा चुनाव 2019 में कांग्रेस की हार के बाद राहुल गांधी ने पार्टी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। ऐसी संभावनाएं भी हैं कि रैली में राहुल गांधी को एक बार फिर पार्टी अध्यक्ष बनाने की मांग उठे। वैसे अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद राहुल गांधी पार्टी के मामलों में कम ही दखल दे रहे हैं। उनका ज्यादातर समय उनके संसदीय क्षेत्र से जुड़ी गतिविधियों में ही जा रहा है। हालांकि, कांग्रेस के कई नेताओं ने यह बयान दिए हैं कि राहुल गांधी को वापसी करना चाहिए। सोनिया के अध्यक्ष बनने के बाद पहली मेगा रैली सोनिया गांधी के पार्टी का अंतरिम अध्यक्ष बनने के बाद यह पहला मौका है, जब कांग्रेस ने किसी बड़ीरैली का आयोजन किया। हालांकि, इसका मकसद कांग्रेस पार्टी में टीम राहुल की ताकत का प्रदर्शन करना भी है। पहले यह रैली 30 नवंबर को होने वाली थी, मगर बाद में संसद के शीतकालीन सत्र के मद्देनजर इसका समय 14 दिसंबर तय किया गया।
#

🇮🇳 भारत बचाओ रैली

🇮🇳 भारत बचाओ रैली - कांग्रेस का ' भारत बचाओ ' | मेरा नाम राहुल सावरकर नहीं , राहुल गांधी है , सही बात बोलने के लिए माफी नहीं मांगूंगा : राहुल गांधी • प्रियंका ने कहा - न्याय की लड़ाई लड़ने से बड़ी देशभक्ति कोई नहीं , आज हर तरफ अन्याय ' ऐसे कानून बनाए जा रहे हैं , जिससे लाखों लोग बंदी की तरह रखे जा सकें ' ' गरीबों पर मुसीबतें लादी जाती हैं और बड़े उद्योगपतियों के कर्ज माफ किए जा रहे ' - ShareChat
456 ने देखा
1 दिन पहले
#

🇮🇳 भारत बचाओ रैली

#🇮🇳 भारत बचाओ रैली #खबरीलाल entertainment news #🌐 राष्ट्रीय-अंतराष्ट्रीय खबरें #📰 समाचार एवं न्यूज़ पेपर क्लिपनई दिल्ली.यहांके रामलीला मैदान में शनिवार को कांग्रेस ने मोदी सरकार के खिलाफ ‘भारत बचाओ’ रैली की। इसमें कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा और डॉ. मनमोहन सिंह समेत कई वरिष्ठ नेता शामिल हुए। रैली मेंदेश की गिरती अर्थव्यवस्था, बढ़ती बेरोजगारी जैसे मुद्देनिशाने पर रहे। प्रियंका ने कहा कि हर बस स्टॉप, हर अखबार में दिखता है कि ‘मोदी है तो मुमकिन है।’ असलियत यह है कि भाजपा है तो 100 रु किलो प्याज है। भाजपा है तो 45 साल में सबसे ज्यादा बेरोजगारी मुमकिन है। भाजपा है तो 4 करोड़ नौकरियां नष्ट होना मुमकिन है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका ने यह भी कहा,‘‘न्याय की लड़ाई लड़ने से बड़ी देशभक्ति कोई नहीं है। आज जिस दौर से हमारा देश गुजर रहा है, हर तरफ अन्याय है। गरीबों पर मुसीबतें लादी जाती हैं और बड़े उद्योगपतियों के कर्ज माफ किए जाते हैं। ऐसे कानून बनाए जाते हैं, जिससे लाखों लोग बंदी की तरह रखे जाते हैं। आज की लड़ाई में जो नहीं खड़ा होगा, वो कायर कहलाएगा। भारतकी रखवाली करना,स्वतंत्रता, स्वाभिमान और स्वाधीनता का हक रखना हम सबकी जिम्मेदारी है। आप सबकी जिम्मेदारी है। इस जिम्मेदारी को निभाने के लिए कांग्रेस के मेरे कार्यकर्ता भाइयों-बहनों की है। इस देश को हबचाने के लिए यह भावना लेकर आए हैं। इसके लिए धन्यवाद है।’’ ‘मंत्रियों के पास कोई नीति नहीं’ पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने कहा, ‘‘मोदी सरकार ने अपने दूसरे कार्यकाल के केवल 6 महीने में ही देश की अर्थव्यवस्था ध्वस्त कर दी। उनके मंत्रीपूरी तरह से तर्कहीन हो चुके हैं। कल वित्त मंत्री ने कहा कि सब ठीक है। हम यानी भारत दुनिया में शीर्ष पर है। सिर्फ एक बात उन्होंने नहीं कही कि अच्छे दिन आने वाले हैं।’’ रैली के जरिए राहुल के लिए माहौल बनाने की कोशिश सूत्रों के मुताबिक, टीम राहुल की कोशिश है कि रैली में एक बार फिर राहुल को प्रोजेक्ट और उनके लिए माहौल तैयार करने की योजना है। लोकसभा चुनाव 2019 में कांग्रेस की हार के बाद राहुल गांधी ने पार्टी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। ऐसी संभावनाएं भी हैं कि रैली में राहुल गांधी को एक बार फिर पार्टी अध्यक्ष बनाने की मांग उठे। वैसे अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद राहुल गांधी पार्टी के मामलों में कम ही दखल दे रहे हैं। उनका ज्यादातर समय उनके संसदीय क्षेत्र से जुड़ी गतिविधियों में ही जा रहा है। हालांकि, कांग्रेस के कई नेताओं ने यह बयान दिए हैं कि राहुल गांधी को वापसी करना चाहिए। सोनिया के अध्यक्ष बनने के बाद पहली मेगा रैली सोनिया गांधी के पार्टी का अंतरिम अध्यक्ष बनने के बाद यह पहला मौका है, जब कांग्रेस ने किसी बड़ीरैली का आयोजन किया। हालांकि, इसका मकसद कांग्रेस पार्टी में टीम राहुल की ताकत का प्रदर्शन करना भी है। पहले यह रैली 30 नवंबर को होने वाली थी, मगर बाद में संसद के शीतकालीन सत्र के मद्देनजर इसका समय 14 दिसंबर तय किया गया।
373 ने देखा
1 दिन पहले
#खबरीलाल entertainment news #📰 समाचार एवं न्यूज़ पेपर क्लिप #🌐 राष्ट्रीय-अंतराष्ट्रीय खबरें नई दिल्ली.यहांके रामलीला मैदान में शनिवार को कांग्रेस ने मोदी सरकार के खिलाफ ‘भारत बचाओ’ रैली की। इसमें कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा और डॉ. मनमोहन सिंह समेत कई वरिष्ठ नेता शामिल हुए। रैली मेंदेश की गिरती अर्थव्यवस्था, बढ़ती बेरोजगारी जैसे मुद्देनिशाने पर रहे। प्रियंका ने कहा कि हर बस स्टॉप, हर अखबार में दिखता है कि ‘मोदी है तो मुमकिन है।’ असलियत यह है कि भाजपा है तो 100 रु किलो प्याज है। भाजपा है तो 45 साल में सबसे ज्यादा बेरोजगारी मुमकिन है। भाजपा है तो 4 करोड़ नौकरियां नष्ट होना मुमकिन है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका ने यह भी कहा,‘‘न्याय की लड़ाई लड़ने से बड़ी देशभक्ति कोई नहीं है। आज जिस दौर से हमारा देश गुजर रहा है, हर तरफ अन्याय है। गरीबों पर मुसीबतें लादी जाती हैं और बड़े उद्योगपतियों के कर्ज माफ किए जाते हैं। ऐसे कानून बनाए जाते हैं, जिससे लाखों लोग बंदी की तरह रखे जाते हैं। आज की लड़ाई में जो नहीं खड़ा होगा, वो कायर कहलाएगा। भारतकी रखवाली करना,स्वतंत्रता, स्वाभिमान और स्वाधीनता का हक रखना हम सबकी जिम्मेदारी है। आप सबकी जिम्मेदारी है। इस जिम्मेदारी को निभाने के लिए कांग्रेस के मेरे कार्यकर्ता भाइयों-बहनों की है। इस देश को हबचाने के लिए यह भावना लेकर आए हैं। इसके लिए धन्यवाद है।’’ ‘मंत्रियों के पास कोई नीति नहीं’ पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने कहा, ‘‘मोदी सरकार ने अपने दूसरे कार्यकाल के केवल 6 महीने में ही देश की अर्थव्यवस्था ध्वस्त कर दी। उनके मंत्रीपूरी तरह से तर्कहीन हो चुके हैं। कल वित्त मंत्री ने कहा कि सब ठीक है। हम यानी भारत दुनिया में शीर्ष पर है। सिर्फ एक बात उन्होंने नहीं कही कि अच्छे दिन आने वाले हैं।’’ रैली के जरिए राहुल के लिए माहौल बनाने की कोशिश सूत्रों के मुताबिक, टीम राहुल की कोशिश है कि रैली में एक बार फिर राहुल को प्रोजेक्ट और उनके लिए माहौल तैयार करने की योजना है। लोकसभा चुनाव 2019 में कांग्रेस की हार के बाद राहुल गांधी ने पार्टी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। ऐसी संभावनाएं भी हैं कि रैली में राहुल गांधी को एक बार फिर पार्टी अध्यक्ष बनाने की मांग उठे। वैसे अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद राहुल गांधी पार्टी के मामलों में कम ही दखल दे रहे हैं। उनका ज्यादातर समय उनके संसदीय क्षेत्र से जुड़ी गतिविधियों में ही जा रहा है। हालांकि, कांग्रेस के कई नेताओं ने यह बयान दिए हैं कि राहुल गांधी को वापसी करना चाहिए। सोनिया के अध्यक्ष बनने के बाद पहली मेगा रैली सोनिया गांधी के पार्टी का अंतरिम अध्यक्ष बनने के बाद यह पहला मौका है, जब कांग्रेस ने किसी बड़ीरैली का आयोजन किया। हालांकि, इसका मकसद कांग्रेस पार्टी में टीम राहुल की ताकत का प्रदर्शन करना भी है। पहले यह रैली 30 नवंबर को होने वाली थी, मगर बाद में संसद के शीतकालीन सत्र के मद्देनजर इसका समय 14 दिसंबर तय किया गया।
#

खबरीलाल entertainment news

खबरीलाल entertainment news - कांग्रेस का ' भारत बचाओ ' / प्रियंका ने कहा भाजपा है तो बेरोजगारी , महंगा प्याज और 4 करोड़ नौकरियों का नष्ट होना मुमकिन है • प्रियंका ने कहा - न्याय की लड़ाई लड़ने से बडी देशभक्ति कोई नहीं , आज हर तरफ अन्याय ' ऐसे कानून बनाए जा रहे हैं , जिससे लाखों लोग बंदी की तरह रखे जा सकें ' ' गरीबों पर मुसीबतें लादी जाती हैं और बड़े उद्योगपतियों के कर्ज माफ किए जा रहे ' - ShareChat
157 ने देखा
1 दिन पहले
#खबरीलाल entertainment news #🇮🇳 भारत बचाओ रैली #🌐 राष्ट्रीय-अंतराष्ट्रीय खबरें #📰 समाचार एवं न्यूज़ पेपर क्लिप नई दिल्ली. कांग्रेस दिल्ली के रामलीला मैदान में शनिवार को मोदी सरकार के खिलाफ भारत बचाओ रैली करेगी। इसमें देशभर से कांग्रेस कार्यकर्ता पहुंचेंगे। सूत्रों ने बताया कि रैली में कांग्रेस का फोकस राहुल गांधी पर होगा। साथ ही देश में गिरती अर्थव्यवस्था, बढ़ती बेरोजगारी समेत किसानों की समस्याओं जैसे मुद्दे उठाकर सरकार को घेरने का प्रयास किया जाएगा। बताया जा रहा है कि रैली में राहुल गांधी को प्रोजेक्ट करने की योजना है। Rahul Gandhi ✔ @RahulGandhi आज दिल्ली के ऐतिहासिक रामलीला मैदान में कांग्रेस पार्टी की ओर से आयोजित भाजपा सरकार की तानाशाही, I.C.U में पहुँचा दी गई अर्थव्यवस्था और लोकतंत्र की हत्या के विरोध मे जनसभा को संबोधित करूँगा। Live: http://facebook.com/rahulgandhi #BharatBachaoRally Twitter पर छबि देखें 17.2 हज़ार 9:51 am - 14 दिस॰ 2019 Twitter Ads की जानकारी और गोपनीयता 7,793 लोग इस बारे में बात कर रहे हैं सरकार की आर्थिक नीतियों की आलोचना होगी सूत्रों ने बताया कि रैली में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह समेत पार्टी के अनेक वरिष्ठ नेता शामिल होंगे। पार्टी के वरिष्ठ नेता सरकार की आर्थिक नीतियों पर निशाना साधेंगे। रैली का फोकस मोदी सरकार की नीतियों पर पुरजोर हमला करना है। सूत्रों के मुताबिक, रैली के लिए कांग्रेस का नारा ‘मोदी है तो मंदी है’ होगा। रैली के जरिए राहुल के लिए माहौल बनाने की कोशिश सूत्रों के मुताबिक, टीम राहुल की कोशिश है कि रैली में एक बार फिर राहुल को प्रोजेक्ट और उनके लिए माहौल तैयार करने की योजना है। लोकसभा चुनाव 2019 में कांग्रेस की हार के बाद राहुल गांधी ने पार्टी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। ऐसी संभावनाएं भी हैं कि रैली में राहुल गांधी को एक बार फिर पार्टी अध्यक्ष बनाने की मांग उठे। पार्टी के नेता ने न्यूज एजेंसी को बताया कि रैली में कांग्रेस कार्यकर्ता बड़ी संख्या में राहुल गांधी का मास्क लगाए दिखेंगे। यूथ कांग्रेस और एनएसयूआई रैली में पूरी तरह से राहुल का समर्थन करते दिखेंगी। कार्यकर्ताओं के हाथ में बैनर, पोस्टर, झंडे होंगे, जो पार्टी नेतृत्व के लिए राहुल के पक्ष में माहौल तैयार करेंगे। कांग्रेस नेता चाहते हैं राहुल वापसी करें वैसे अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद राहुल गांधी पार्टी के मामलों में कम ही दखल दे रहे हैं। उनका ज्यादातर समय उनके संसदीय क्षेत्र से जुड़ी गतिविधियों में ही जा रहा है। हालांकि, कांग्रेस के कई नेताओं ने यह बयान दिए हैं कि राहुल गांधी को वापसी करना चाहिए। सोनिया के अध्यक्ष बनने के बाद पहली मेगा रैली सोनिया गांधी के पार्टी का अंतरिम अध्यक्ष बनने के बाद यह पहला मौका है, जब कांग्रेस मेगा रैली का आयोजन करने जा रही है। हालांकि, इसका मकसद कांग्रेस पार्टी में टीम राहुल की ताकत का प्रदर्शन करना भी है। पहले यह रैली 30 नवंबर को होने वाली थी, मगर बाद में संसद के शीतकालीन सत्र के मद्देनजर इसका समय 14 दिसंबर तय किया गया।
#

खबरीलाल entertainment news

Rahul Gandhi
Rahul Gandhi.२९,५९,४४२ आवडी · ३,९२,५९४ जण ह्याबद्दल बोलत आहेत.Rahul Gandhi is a member of the Indian National Congress. He is currently the Lok Sabha MP...
144 ने देखा
1 दिन पहले
#🇮🇳 भारत बचाओ रैली नई दिल्ली. कांग्रेस दिल्ली के रामलीला मैदान में शनिवार को मोदी सरकार के खिलाफ भारत बचाओ रैली करेगी। इसमें देशभर से कांग्रेस कार्यकर्ता पहुंचेंगे। सूत्रों ने बताया कि रैली में कांग्रेस का फोकस राहुल गांधी पर होगा। साथ ही देश में गिरती अर्थव्यवस्था, बढ़ती बेरोजगारी समेत किसानों की समस्याओं जैसे मुद्दे उठाकर सरकार को घेरने का प्रयास किया जाएगा। बताया जा रहा है कि रैली में राहुल गांधी को प्रोजेक्ट करने की योजना है। Rahul Gandhi ✔ @RahulGandhi आज दिल्ली के ऐतिहासिक रामलीला मैदान में कांग्रेस पार्टी की ओर से आयोजित भाजपा सरकार की तानाशाही, I.C.U में पहुँचा दी गई अर्थव्यवस्था और लोकतंत्र की हत्या के विरोध मे जनसभा को संबोधित करूँगा। Live: http://facebook.com/rahulgandhi #BharatBachaoRally Twitter पर छबि देखें 17.2 हज़ार 9:51 am - 14 दिस॰ 2019 Twitter Ads की जानकारी और गोपनीयता 7,793 लोग इस बारे में बात कर रहे हैं सरकार की आर्थिक नीतियों की आलोचना होगी सूत्रों ने बताया कि रैली में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह समेत पार्टी के अनेक वरिष्ठ नेता शामिल होंगे। पार्टी के वरिष्ठ नेता सरकार की आर्थिक नीतियों पर निशाना साधेंगे। रैली का फोकस मोदी सरकार की नीतियों पर पुरजोर हमला करना है। सूत्रों के मुताबिक, रैली के लिए कांग्रेस का नारा ‘मोदी है तो मंदी है’ होगा। रैली के जरिए राहुल के लिए माहौल बनाने की कोशिश सूत्रों के मुताबिक, टीम राहुल की कोशिश है कि रैली में एक बार फिर राहुल को प्रोजेक्ट और उनके लिए माहौल तैयार करने की योजना है। लोकसभा चुनाव 2019 में कांग्रेस की हार के बाद राहुल गांधी ने पार्टी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। ऐसी संभावनाएं भी हैं कि रैली में राहुल गांधी को एक बार फिर पार्टी अध्यक्ष बनाने की मांग उठे। पार्टी के नेता ने न्यूज एजेंसी को बताया कि रैली में कांग्रेस कार्यकर्ता बड़ी संख्या में राहुल गांधी का मास्क लगाए दिखेंगे। यूथ कांग्रेस और एनएसयूआई रैली में पूरी तरह से राहुल का समर्थन करते दिखेंगी। कार्यकर्ताओं के हाथ में बैनर, पोस्टर, झंडे होंगे, जो पार्टी नेतृत्व के लिए राहुल के पक्ष में माहौल तैयार करेंगे। कांग्रेस नेता चाहते हैं राहुल वापसी करें वैसे अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद राहुल गांधी पार्टी के मामलों में कम ही दखल दे रहे हैं। उनका ज्यादातर समय उनके संसदीय क्षेत्र से जुड़ी गतिविधियों में ही जा रहा है। हालांकि, कांग्रेस के कई नेताओं ने यह बयान दिए हैं कि राहुल गांधी को वापसी करना चाहिए। सोनिया के अध्यक्ष बनने के बाद पहली मेगा रैली सोनिया गांधी के पार्टी का अंतरिम अध्यक्ष बनने के बाद यह पहला मौका है, जब कांग्रेस मेगा रैली का आयोजन करने जा रही है। हालांकि, इसका मकसद कांग्रेस पार्टी में टीम राहुल की ताकत का प्रदर्शन करना भी है। पहले यह रैली 30 नवंबर को होने वाली थी, मगर बाद में संसद के शीतकालीन सत्र के मद्देनजर इसका समय 14 दिसंबर तय किया गया। #📰 समाचार एवं न्यूज़ पेपर क्लिप #🌐 राष्ट्रीय-अंतराष्ट्रीय खबरें
#

🇮🇳 भारत बचाओ रैली

🇮🇳 भारत बचाओ रैली - ShareChat
193 ने देखा
1 दिन पहले
#

🚒दिल्ली : गोदाम में आग

#🚒दिल्ली : गोदाम में आग नई दिल्ली. राजधानी के मुंडका क्षेत्र में स्थित एक प्लाईवुड फैक्ट्रीमें शनिवारतड़के आग लग गई। दमकल की 21 गाड़ियां मौके पर पहुंच गईं। हालांकि इससे किसी भी तरह की जनहानि की खबर नहीं है। आग पास की बल्ब फैक्ट्री तक पहुंच गई। आग लगने के कारण का फिलहाल पता नहीं चला है। इससे पहले8 दिसंबर को दिल्ली के अनाज मंडी में एक फैक्ट्री में आग लगी थी। इसमें 43 लोगों की मौत हुई थी। इस फैक्ट्री में प्लास्टिक के सामान, खिलौने, स्कूल बैगबनाए जाते थे। आग पर काबू पा लिया गया दमकल अधिकारी एसएस तुली ने कहा, ‘‘हमें सबसे पहला फोन सुबह करीब 5 बजे आया था। गोदाम में लकड़ियां भरी हुई थीं। इससे पहले की आग दूसरी बिल्डिंग तक पहुंचती, हमने उस पर काबू पा लिया।’’ #📰 समाचार एवं न्यूज़ पेपर क्लिप #🌐 राष्ट्रीय-अंतराष्ट्रीय खबरें
3.2k ने देखा
1 दिन पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
अनफ़ॉलो
लिंक कॉपी करें
शिकायत करें
ब्लॉक करें
रिपोर्ट करने की वजह: