👌सुविचार

👌सुविचार

https://play.google.com/store/apps/details?id=goodmorning.makeimage पत्ता भी हिलता है तो , उसी के हुकम से ………….. अधिकार है हमारा , खुद ही के कर्म से , ………….. मिलता है फल तेरे ही कर्म की नियत से ………… आदमी जीता अपने – २ विकारों से………….. घटनाएं घटती है , हुकमें मंजूरे खुदा से ………….. चाँद – तारे भी तू ही उगा रहा है …………. रोशन है ये जहां हमारा ,………… होता सब कुछ तेरे ही रहमों कर्म से …………. है सत्तापति एक ही , जो पूरा ब्रह्माण्ड चलारहा है ………… सिर्फ तेरा ही घर नहीं ,………… वो तो जीव – जंतु सभी को चला रहा है ………………. देता है वो जिसे भी सत्ता , …………… मिलती सत्ता उसे उसी के हुकम से …………….. रखना याद इतना , है ये सत्ता उसी की ,…………. तू भी जीता है उसी के रजा से……………. दुरूपयोग होता जब भी सत्ता का , …………. गिरता फिर वापस तू उसी के हुकम से……………….. संत की तपस्या भंग हो तो वो राजा होजाता है …………… पर जब भी राजा की तपस्या भंग हो , ……….. पुनः लोटता नरक , अपने ही कर्म से …………. पत्ता भी हिलता है तो , उसी के हुकम से …………………. अधिकार है हमारा , खुद ही के कर्म से ,………… मिलता है फल तेरे ही कर्म की नियत से ……………………. - आलोक कुमार शर्मा के तरफ से आप सभी को दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएँ
#

सुविचार

सुविचार - ShareChat
GIF
562 views
1 months ago
No more posts
Share on other apps
Facebook
WhatsApp
Copy Link
Delete
Embed
I want to report this post because this post is...
Embed Post