☸️जय भीम
सम्राट आसोक के सिलालेख तोडकर बनाया चंद्रालंबा देवी मंदीर : गुलबर्गा (कर्नाटक)जिले के सनाथी मे एक प्राचीन मंदीर था जिसका नाम चंद्रालंबा देवी मंदीर । इस मंदीर का छत अचानक ढह जानेसे देवी मूर्ती खंडीत हुई और इतिहास के कई राज सामने आए । ईस मंदीर के मलबे से सम्राट आसोक के चार सिलालेख प्राप्त हुए । ईन सिलालेखोंको तोडकर मंदीर का फाऊंडेशन और फ्लोर बनाने के लिए उपयोग किया था ।यह सिलालेख प्राकृत भाषामे तथा ब्राह्मी(असल नाम नागरी ; ब्राह्मी नाम कैसे पडा यह बाद मे चर्चा करेंगे )लिपी मे लिखे हुए है । इनमे से एक सिलालेख देवी की मूर्ती रखने के लिए आधारशीला के तौरपर उपयोग किया था । ASI ने जब यहाँ खुदायी आरंभ की तो सबको चौंकाने वाले तथ्य सामने आए ।यहाँ पर सम्राट आसोक के बौध्द भारत की पूरी तस्वीर देखने मे आती है । यहाँपर -सिलालेखोंके 81 छोटेमोटे पत्थर के अवशेष , 2 स्तूप , मिट्टीके तीन टिले और बुध्द की कई प्रतिमाएँ साथ मे टेराकोटा मूर्तीयाँ ,मौर्य और सातवाहन कालीन कई महत्वपूर्ण अवशेष मिले । दोस्तो , देशभर मे ऐसे कई मंदीर है जिन् मंदीरोंने भारत की मूल विरासत को गुमनामी के अंधेरे मे धकेल दिया है । https://m.facebook.com/groups/1154289718015888?view=permalink&id=1817276555050531
#

☸️जय भीम

☸️जय भीम - ShareChat
3.2k ने देखा
9 महीने पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post