શ્રાદ્ધ
#

શ્રાદ્ધ

*શ્રાદ્ધ શા માટે કરવાનું ?* શુ આપડા ઋષિ પાગલ હતા ? કે કાગડા માટે ખીર બનાવવાની ? અને તેને આપીએ તો પૂર્વજો ને મળે ? ના, ઋષિ કાન્તિકારી વિચારણાના હતા. *આ છે ખરું કારણ👇🏻* તમે કોઈ દિવસ પીપળો કે વડને ઉગાડ્યો છે ? કે કોઈને ઉગાડતા જોયો છે ? પીપળો કે વડનાં બીજ મળે છે ? જવાબ છે ના. વડ કે પીપળા નાં ટેટા ગમે જેટલા રોપશો તો પણ નહિ ઉગે કારણકે પ્રકૃતિ/કુદરતે આ બે ઉપયોગી વૃક્ષ ઉગાડવા માટે અલગ ગોઠવણ કરી છે. આ બન્નેનાં ટેટા કાગડા ખાય અને એમની હોજરીમાં પ્રોસેસ થાય પછી જ તે બીજ ઉગવા લાયક થાય છે તે સિવાય નહિં. કાગડા તે ખાય ને વિષ્ટા માં જ્યાં જ્યાં કરે ત્યાં ત્યાં આ ઝાડ ઉગે . પીપળો જગતનું એકમાત્ર વૃક્ષ છે જે રાઉન્ડ ધ ક્લોક O2 ઓક્સિજન છોડે છે અને વડ ના ઔષધીય ગુણો અપરંપાર છે. જો આ બે વૃક્ષો જીવડવા હોય તો કાગડાની મદદ વગર એ શક્ય નથી માટે કાગડાને બચાવવા પડે. એ કેમનું ? તો કાગડા ભાદરવા મહિના માં ઈંડા મૂકે અને બચ્ચા બહાર આવે તો એ નવી પેઢી ને તંદુરસ્ત અને ભરપૂર ખોરાક મળવો જરૂરી છે માટે ઋષિઓ એ કાગડાના બચ્ચાઓ ને દરેક છત પર ખોરાક મળી રહે એ માટે શ્રાધ્ધની ગોઠવણ કરી જેથી કાગડાની નવી જનરેશન ઉછરી જાય... *એટલે મગજ દોડાવ્યા વગર શ્રાધ્ધ કરજો પ્રકૃતિ નાં રક્ષણ માટે અને ચોક્કસ જ્યારે વડ પીપળો જોશો તો પૂર્વજો યાદ આવશે જ...*
3.5k એ જોયું
8 મહિના પહેલા
*👏🕉 નમો નારાયણ ✨ क्या स्त्रियों को भी श्राद्ध तर्पण करने का अधिकार है ??* "आज महिलाओं को हर जगह बराबर का दर्जा प्राप्त है ऐसे में सबकेमन में एक प्रश्न उठता है कि महिलाएं श्राद्ध करें या नही ??? प्रश्न भ्रम की स्थति उत्पन्न करता है ! अक्सर देखने में आता है कि परिबार के पुरुष सदस्य या पुत्र पौत्र न होने पर कई बार रिस्तेदार के पुत्र पौत्र का सहारा लिया जाता है !!कुल मिलाकर मृतक की कन्या या धर्म पत्नी भी मृतक का अंतिम संस्कार व श्राद्ध कर सकती है !!यदि आप सोच रहे हो कि ये तो आधुनिक युग की सोच है तो आप गलत हो !ये आधुनिक युग की सोच नही वल्कि "हिन्दू धर्म ग्रंथ "धर्मसिंधु "सहित मनुस्मृति और पुराणों में भी स्त्रियों को पिण्डदान आदि करने का अधिकार प्राप्त है !!यहां तक कि शंकराचार्य ने भी इस व्यवस्था को तर्क सम्मत माना है !ताकि श्राद्ध करने की परंपरा जीवित रहे और लोग अपने पितरो को भूल नही !! "किसी मृतक के अंतिम संस्कार और श्राद्ध कर्म की व्यवस्था के लिए गरुण पुराण में उल्लेख है कि "पुत्राभावे वधू कुर्यात भार्यभावे च सोदनः शिष्यों वा ब्रह्मणः सपिंडों वा समाचरेत !! ज्येष्ठस्य वा कनिष्ठस्य भ्रात: पुत्रष्य: पौत्रके श्रद्धया मात्र दिकम कार्य पुत्रहीनेत खगः!! अर्थात ज्येष्ठ पुत्र या कनिष्ठ पुत्र के अभाव में वहू पत्नी को श्राद्ध का अदिकार है !इसमें ज्येष्ठ पुत्री या एक मात्र पुत्री भी शामिल है !!यदि पत्नी जीवित न हो तो सगा भाई अथवा भतीजा भांजा नाती पोता आदि कोई भी श्राद्ध कर सकता है "!इन सबके अभाव में रिस्तेदार अथवा कुलपुरोहित भी मृतक का श्राद्ध कर सकता है !! इस प्रकार परिबार के मुख्य पुरुष सदस्य के अभाव में कोई भी महिला व्रत लेकर पितरो का श्राद्ध तर्पण और तिलांजलि देकर मोक्ष की कामना कर सकती है !! जब राम ने नही सीता ने किया था राजा दशरथ का पिण्ड दान *****************************************"वाल्मीक रामायण में भी सीता द्वारा पिण्ड दान देकर दसरथ की आत्माको मोक्ष मिलने का प्रसंग आया है पौराणिक कथानुसार वनवास के टाइम राम लक्ष्मण सीता पितृ पक्ष के दौरान श्राद्ध करने हेतु गया धाम पहुंचे वहां श्राद्ध कर्म के लिए आवश्यक सामग्री जुटाने हेतु राम लक्ष्मण नगर की ओर चल दिये !उधर दोपहर हो गई थी पिण्ड दान का समय निकला जा रहा था और सीता की व्यग्रता बढ़ती जा रही थी अपराह्न में तभी दसरथ जी की आत्मा ने पिण्ड दान की मांग कर दी !गया जी में विष्णु पद मंदिर के नजदीक "फल्गु नदी "के तट पर अकेली सीता जी अस मंजस में पड़ गई !उन्होंने फल्गु नदी के साथ वटवृक्ष केतकी के फूल और गाय को साक्षी मानकर बालू का पिण्ड बनाकर स्वर्गीय राजा दशरथ के निमित्त पिण्ड दान दे दिया !! कुछ देर बाद राम लक्ष्मण लौटे तो सीता ने कहा कि समय निकल जाने के कारण मैंने खुद ही पिण्ड दान कर दिया ,राम बोले विना सामग्री के पिण्ड दान कैसे हो सकता है ,इसके लिए राम ने सीता से प्रमाण मांगा , तब सीता ने कहा कि फल्गु नदी की रेत ,केतकी के फूल,गाय और बात वटवृक्ष मेरे द्वारा किये गए कर्म की एविडेंस दे सकते है !!इतने में फल्गु नदी गाय और केतकी के फूल तीनो मुकर गए !सिर्फ वटवृक्ष ने सच बात कही ! तब सीता ने दसरथ का ध्यान करके उनसे भी गवाही देने की प्रार्थना की,दसरथ जी ने सीता की प्रार्थना स्वीकार कर घोषणा की की सीता ने ही मुझे पिण्ड दान दिया है !तब राम आस्वत हुए!!लेकिन सीता ने तीनों गवाहों द्वारा झूठ बोलने पर उनको क्रोधित होकर श्राप दिया !! की फल्गु नदी जा तू सिर्फ नाम की रहेगी !तुझमें पानी नही रहेगा इसलिए फल्गु नदी गया में आज भी सुखी ही रहती है !!गाय को कहा तू पूज्य होकर भी लोगो का झूठा खाएगी और केतकी के फूलों को श्राप दिया कि तुझे पूजा में कभी चढ़ाया नही जाएगा !!और वटवृक्ष को आशीर्बाद दिया कि तुझे लंबी आयु प्राप्त होगी तू प्राणियों को छाया पप्रादान करेगा जय जय श्री हरि🙏🙏
#

પિતૃશ્રાદ્ધ

પિતૃશ્રાદ્ધ - neeruguptayadav mymandir पर मेरी धार्मिक पोस्ट पाएँ । ॐ नमो नाराय । ॐ क्या स्त्रियों को भी श्राद्ध . . . JJश्राद्ध पक्ष : 24 सितम्बर महालय श्राद्धरम्भJj | जिन माता - पिता ने हमें पाला - पोसा , बड़ा किया , पढ़ाया - लिखाया , हममें अच्छे संस्कारों का सिंचन किया उनका श्रद्धापूर्वक स्मरण करके उन्हें तर्पण - श्राद्ध से प्रसन्न करने के दिन ही हैं श्राद्धपक्ष । ' श्राद करने से कुल में कोई दुःखी नहीं रहता । पितरों की पूजा करके मनुष्य आयु , पुत्र , यश , स्वर्ग , कीर्ति , पुष्टि , बल , श्री , पशुधन , सुख , धन 1२ धान्य प्राप्त करता है - गरुड पुराण | mymandir - भारत का # 1 धार्मिक ऐप्प Google Play - ShareChat
9.6k એ જોયું
9 મહિના પહેલા
અન્ય એપ પર શેર કરો
Facebook
WhatsApp
લિંક કોપી કરો
કાઢી નાખો
Embed
હું આ પોસ્ટની ફરિયાદ કરવા માંગુ છુ, કારણકે આ પોસ્ટ...
Embed Post