📰 31 जुलाई की न्यूज़
#

📰 31 जुलाई की न्यूज़

#Zomato का मामला इतना सीधा नही है जितना आप समझते हैं.. "जब एक मुस्लिम ग्राहक ने ज़ोमॅटो का खाना मात्र इसलिए कैंसल किया कि वो चिकन धीरे धीरे गला रेत कर और तड़पा तड़पा के नही मारा गया था यानी #हलाल नही था, चूंकि उसके धर्म ने उसे केवल #हलाल_मांस खाने की इजाजत दी है #झटका_मांस नही.. तो कस्ट्मर सपोर्ट अधिकारी ने माफी मांगते हुए ऑर्डर कैंसल किया और आगे की कार्यवाई करने का वचन भी दिया, जबकि हिन्दू ग्राहक अमित शुक्ला जी ने जब अपने धर्म की बात मान कर यानी मलेच्छ /यवन/ मुस्लिम के हाथ का भोजन ग्रहण करने से मना किया, तो कस्टमर केयर वाले ने ऑर्डर कैंसल करने से साफ मना कर दिया ..और कहा कि जो कारण आपने बताया है उसके आधार पर आप ऑर्डर कैंसल नही कर सकते .भोजन का कोई धर्म नही होता.". ये आर्डर कैंसल नही हो सकता, और न ही आपको इसका कोई रिफंड ही मिलेगा.. आखिर ऐसा दोगलापन क्यों.. जब एक मलेच्छ को उसके अ_धर्म मे बताए अनुसार ही खाना देना उचित है ,...तो ....हम अपने धर्म और वर्जनाओं/निर्देशों के हिसाब से भोजन क्यों नही खा सकते "??? #ज़ोमॅटो की इस दोगली नीति का विरोध और उसका बहिष्कार हर बुद्धिजीवी को करना ही चाहिए.. (ये सबको पता है कि आज के युग मे सब लोग सबके हाथ का भोजन खा रहे हैं मीट मछली अंडे सभी जाति और वर्ण के लोग खा रहे हैं .. परंतु जिस प्रकार के मामले में एक धर्म वाले का साथ दिया जाय समर्थन किया जाय और दूसरे धर्म वाले का उसी तरह के मामले में विरोध और उपहास किया जाय तो .??) और रही बात पंडित जी के धर्म की तो.. मित्रों थोड़ा ध्यान दीजिए.. यहां #झोमैटो के #कस्टमर_केयर_अधिकारी के #दोगले_रवैये का विरोध हो रहा है न कि मुस्लिम और पंडित का कोई विवाद..💐💐 जय हिंद.. जय भारत.. #📰 31 जुलाई की न्यूज़
135 ने देखा
3 महीने पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post