4 अप्रैल की न्यूज़
तरनतारन. तरनतारन में एक बार फिर पाकिस्तानी ड्रोन देखा गया, जिसे हमारी वायुसेना ने खदेड़ दिया। पंजाब के सीमांत इलाके में इस तरह की यह पहली घटना नहीं है, इससे पहले 1 अप्रैल को तड़के करीब साढ़े 3 बजे पड़ोसी मुल्क की तरफ से एफ-16 विमान भारतीय क्षेत्र में भेजे गए थे, जिनको वायुसेना ने खदेड़ दिया था। बुधवार रात करीब सवा 10 बजे तरनतारन जिले के खेमकरन इलाके में एक बार फिर सीमा पार से ड्रोन भेजा गया। इसे भारतीय क्षेत्र में राडार ने पकड़ लिया और चौकसी बढ़ा दी गई। इसके बाद वायुसेना ने ड्रोन को खदेड़ दिया। इस दौरान तीन धमाकों की आवाज भी सुनी गई। साथ ही खेमकरण सेक्टर में ब्लैकआउट कर दिया गया। ड्रोन खदेड़ने के दौरान तीन धमाके हुए यह घटना खेमकरन सेक्टर के गांव रत्तोके की बताई जा रही है। पाकिस्‍तानी ड्रोन को खदेड़ने के दौरान एक के बाद तीन धमाके हुए। इसके बाद ड्रोन पाकिस्तानी क्षेत्र में वापस लौट गया। ड्रोन पाकिस्तान में सुरक्षित लौटा या नहीं, इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है। घटना को लेकर गांव मैदीपुर, मस्तगढ़, राजुके, खेमकरण, गजल, तूत भंगाला, वुडबुडा आदि क्षेत्रों में करीब डेढ़ घंटे तक ब्लैकआउट रहा। धमाकों के बाद चौकसी बढ़ाई गई गांव रत्तोके के सरपंच कुलबीर सिंह, माछीके के निवासी प्रताप सिंह ने बताया कि उन्होंने धमाकों की आवाज सुनी। इसके बाद बिजली गुल हो गई। साढ़े 11 बजे तक पंजाब पुलिस और खुफिया एजेंसियों को गांव मैदीपुर के डिफेंस रेंज के पास ही बीएसएफ द्वारा रोक लिया गया। खेमकरन सेक्टर में तैनात सेना की 77 बटालियन द्वारा इलाके में चौकसी बढ़ाई गई थी। मौके पर भिखीविंड के डीएसपी एसएस मान, खेमकरण के थाना प्रभारी परमजीत कुमार भी पहुंचे, लेकिन उनको डिफेंस रेंज से आगे नहीं जाने दिया गया।
#

4 अप्रैल की न्यूज़

4 अप्रैल की न्यूज़ - अमृतसर । भारतीय सीमा में फिर घुसा पाकिस्तानी ड्रोन , वायुसेना ने खदेड़ा ; डेढ़ घंटे तक रहा ब्लैक आउट • तरनतारन जिले के खेमकरन इलाके में बुधवार रात करीब सवा 10 बजे पाकिस्तान की ओर से भेजा गया ड्रोन । • गांव रत्तोके में लगाए गए राडार की वजह से आया पकड़ में , लोगों ने सुनी 3 धमाकों की आवाज - ShareChat
241 ने देखा
4 महीने पहले
मुंबई. आरबीआई ने रेपो रेट में 0.25% की कटौती की है। यह 6.25% से घटकर 6% हो गई है। मॉनेटरी पॉलिटी कमेटी (एमपीसी) की बैठक खत्म होने के बाद गुरुवार को ब्याज दरों का ऐलान किया गया। फरवरी की समीक्षा बैठक में भी आरबीआई ने रेपो रेट में 0.25% की कमी की थी, जिसके रेपो रेट 6.25% हो गई थी। लोन की ईएमआई कम होगी रेपो रेट वह दर है जिस पर आरबीआई बैंकों को कर्ज देता है। इसमें कमी होने से बैंकों को सस्ता कर्ज मिलता है। इससे बैंकों के लिए भी ग्राहकों को लोन की दरें घटाने का रास्ता साफ होता है। हालांकि, पिछली बार बैंकों ने ब्याज दरों में उतनी कमी नहीं की थी जितनी आरबीआई ने रेपो रेट घटाई थी। मौजूदा वित्त वर्ष में जीडीपी ग्रोथ 7.2% रहने का अनुमान आरबीआई ने उम्मीद जताई है कि मौजूदा वित्त वर्ष (2019-20) में जीडीपी ग्रोथ 7.2% रहेगी। पहली छमाही में खुदरा महंगाई दर 2.9-3% के बीच रहने के आसार हैं। दूसरी छमाही में यह 3.5-3.8% रह सकती है। आरबीआई ब्याज दरें तय करते वक्त खुदरा महंगाई दर को ध्यान में रखती है। आउटलुक न्यूट्रल बरकरार पिछली बार रेट रेपो रेट में कमी के बाद भी बैंकरों ने उम्मीद जताई थी कि अप्रैल की पॉलिसी में भी रेपो रेट घटाया जा सकता है क्योंकि खुदरा महंगाई दर लगातार आरबीआई के लक्ष्य से कम है। एमपीसी ने पिछली बार आउटलुक भी सख्त से बदलकर न्यूट्रल कर दिया था। जिसे इस बार भी बरकरार रखा है। यानी आगे भी रेपो रेट में कमी की जा सकती है।
#

4 अप्रैल की न्यूज़

4 अप्रैल की न्यूज़ - फैसला / आरबीआई ने रेपो रेट 0 . 25 % घटाई , सभी तरह के लोन सस्ते होने की उम्मीद • रेपो रेट 6 . 25 % से घटकर 6 % हुआ , आरबीआई रेपो रेट के आधार पर बैंकों को देता है कर्ज बैंको को सस्ता कर्ज मिलेगा तो उनके लिए कम ब्याज पर लोन देना आसान होगा रजव । रत । PRESERV VIONI RVE BE BANK 40F \ - ShareChat
1.2k ने देखा
4 महीने पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post