17 अप्रैल की न्यूज़
#

17 अप्रैल की न्यूज़

भारत में हुआ टिक टॉक बैन, सरकार ने गूगल और एपल को नोटिस जारी किया Kohraam शॉर्ट वीडियो बनाने और शेयर करने वाली मनोरंजन ऐप टिक टॉक को भारत में बैन कर दिया गया है। भारत सरकार ने गूगल और एपल को अपने प्ले स्टोर से टिकटॉक एप्लिकेशन हटाने के आदेश जारी कर दिए हैं। इसके बाद यदि किसी के मोबाइल में टिक टॉक एप पाया गया तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी हो सकती है। ये कदम इलेक्ट्रॉनिक्स और इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी मंत्रालय द्वारा उठाया गया है। मंत्रालय ने सुप्रीम कोर्ट के उस फैसले के बाद कदम उठाया है, जिसमें कोर्ट ने मद्रास हाईकोर्ट के फैसले पर स्टे लगाने से इनकार कर दिया था। इस मामले की सुनावाई मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ कर रही है। मामले की सुनवाई 22 अप्रैल के लिए टाल दी गई है। मद्रास हाईकोर्ट ने मामले पर 16 अप्रैल को सुनावाई कर सकती है। मंत्रालय के आदेश के बाद इस एप को डाउनलोड नहीं किया जा सकेगा। ‘इकनॉमिक टाइम्स’ की एक रिपोर्ट में मामले से जुड़े जानकारों के हवाले से बताया गया, “अब और लोग इस ऐप को डाउनलोड नहीं कर सकेंगे। वहीं, जिन्होंने इसे डाउनलोड कर रखा है, वे भी इसका इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे। सरकार ने गूगल और ऐपल से अपने-अपने ऐप स्टोर से इस ऐप को डिलीट करने के लिए कहा है। अब यह इन कंपनियों पर निर्भर करता है कि वह बात मानेंगी या फिर आदेश को चुनौती देंगी।” दूसरी और टिकटॉक ने आदेश को अपमानजनक, भेदभावपूर्ण और मनमाना बताया है और बैन को लेकर कोई कमेंट नहीं किया है। टिकटॉक ने कहा कि उसे थर्ड पार्टी द्वारा अपलोड किए गए कंटेट के लिए जिम्मेदार ठहराना गलत है। कंपनी ने जुलाई 2018 से अब तक 60 लाख से ज्यादा ऐसे वीडियो अपने प्लेटफॉर्म से हटाए हैं, जो कंपनी की गाइडलाइन्स का पालन नहीं करते। टिकटॉक ऐप को म्यूजिकली नाम से लॉन्च किया था, बाद में इसका नाम बदलकर टिकटॉक कर दिया गया। एक रिपोर्ट के अनुसार 2019 के शुरुआती तीन महीनों में टिकटॉक प्लेटफॉर्म पर 9 करोड़ नए भारतीय यूजर जुड़े हैं। वहीं ऐप को दुनियाभर में करीब 100 करोड़ से ज्यादा बार डाउनलोड किया जा चुका है। Share0
339 ने देखा
4 महीने पहले
#17 अप्रैल की न्यूज़ नई दिल्ली. वैश्विक धरोहर विशेषज्ञ ने बुधवार को कहा कि नोट्रे डेम कैथेड्रल में लगी आग भारत के लिए भी चेतावनी है। उन्होंने कहा कि नई सरकार को 12 महीने के भीतर देशभर में मौजूद ऐतिहासिक इमारतों का फायर ऑडिट करवाना चाहिए। सोमवार को फ्रांस की राजधानी पेरिस में स्थित नोट्रे डेम कैथेड्रल में आग लगी थी, जिसके कारण इमारत का पूरा शिखर जल गया था। आग पर नौ घंटे से ज्यादा की मशक्कत के बाद काबू पाया जा सका था। विशेषज्ञ ने कहा- नई सरकार को 12 महीनों के भीतर करना चाहिए फायर ऑडिट 1. भारतीय मूल के विनोद डेनियल ऑस्ट्रेलिया में संग्रहालय विशेषज्ञ हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य सरकारों को ऐतिहासिक इमारतों का फायर ऑडिट करना चाहिए। पेरिस में हुई घटना से भारत को भी सतर्कता बढ़ाना चाहिए। ऐसे स्थानों पर आग से बचने के पर्याप्त इंतजाम किए जाने चाहिए। 2. 1991 में नोट्रे डेम कैथेड्रल को यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज में शामिल किया गया। यह इमारत 850 साल पुरानी है। आग लगने से इमारत का लकड़ी से बना शिखर पूरी तरह जलकर खाक हो गया। 3. 57 वर्षीय डेनियल ने कहा, इस बात पर तत्काल ध्यान दिया जाना चाहिए था। मगर फिलहाल चुनाव जारी हैं। ऐसे में हमें नई सरकार का इंतजार करना होगा। नई सरकार को 12 महीनों के भीतर ऐतिहासिक इमारतों का फायर ऑडिट करवाना चाहिए। 4. डेनियल के मुताबिक उन्होंने दिसंबर में ही कहा था कि भारत में मौजूद अधिकांश संग्रहालयों और सांस्कृतिक विरासतों में आग लगने का खतरा ज्यादा है। इस स्थानों पर आपदा प्रबंधन को सही तरीके से लागू किया जाना चाहिए। 5. डेनियल ने कहा कि नोट्रे डेम कैथेड्रल की घटना का मुझे दुख है। हम इस महत्वपूर्ण ऐतिहासिक इमारत को किताबों, पत्रिकाओं और फिल्मों में देखते आए हैं। हालांकि, चर्च के मुख्य हिस्से को तबाही से बचा लिया गया। 6. फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने 5 साल के भीतर नोट्रे डेम को फिर से बनाने के लिए कहा है। फ्रांस के बिजनेसमैन अरनॉल्ट एलवीएमएच ने नोट्रे डेम के पुनर्निर्माण के लिए करीब 1500 करोड़ रु. देने का वादा किया है। इसके अलावा हॉलीवुड एक्ट्रेस सलमा हाएक के पति फ्रंसिस हेनरी पिनॉल्ट ने भी करीब 786 करोड़ रु. चंदा देने का ऐलान किया। 7. नोट्रे डेम कैथेड्रल का निर्माण 1160 ईस्वी में शुरू हुआ, जो 1260 ईस्वी तक चला। फ्रेंच गॉथिक आर्किटेक्ट का यह नायाब नमूना 69 मीटर ऊंचा है। इसके शिखर तक पहुंचने के लिए 387 सीढ़ियां चढ़नी पड़ती है। यहां नेपोलियन बोनापार्ट का राज्याभिषेक किया गया था। हर साल इसे देखने 1.2 करोड़ लोग आते हैं।
#

17 अप्रैल की न्यूज़

17 अप्रैल की न्यूज़ - ShareChat
234 ने देखा
4 महीने पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post