एक पहल
अयोध्या में रामजन्म भूमि से संबंधित २.७७ एकड भूमि मामले मेॆं ३० सितम्बर २०१० के २:१ बहुमत फैसले के विरूद्ध १४ अपीले हैं हाईकोर्ट ने इसे (सुन्नी वक्फ,निर्मोही अखाडा, राम लला विराजमान) के बीच बराबर बांटा शीर्ष अदालत ने इस पर मई २०११ मे रोक लगा दी तथा यथास्थित बना रखने का आदेश किया था जिस संबंध मे अब ५ सदस्यीय पीठ आज सुनवाई करेगी न्यायधीश "न्याय मूर्ति (एस.ए.बोबडे,एन.वी.रमण,उदय यू ललित,धनंजय,वाई. चंद्रचूण) पीठासीन है जबकि ३ सदस्यीय पीठ ने १९९४ में ५ सदस्यीयसंविधान पीठ मे भेजने से मना किया था जिसमे कहा गया था "मस्जिद इस्लाम का अभिन्न हिस्सा नहीं है|
#

एक पहल

एक पहल - ० ४ ० ७ २०० 34 % 22 : 51 LIVE TV | फारुक अब्दुल्ला ( फाइल फोटो ) राम मंदिर मामले पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा नई तारीख मिलने पर राजनीतिक प्रतिक्रियाएं आनी शुरू हो गई हैं . नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारुक अब्दुल्ला ने इस मसले पर बड़ा बयान दिया है . उन्होंने कहा कि इस मसले को बातचीत से सुलझा लेना चाहिए था , कोर्ट तक जाना ही नहीं चाहिए था . फारुक अब्दुल्ला बोले कि भगवान राम सभी के हैं , कानून बनाकर राम मंदिर बनाना ठीक नहीं है . उन्होंने कहा कि राम सबके भगवान हैं , जिस दिन समाधान हो जाएगा मैं खुद वहां ईंट लगाने जाऊंगा . १ ) 0 6 0 2 Next » Next > - ShareChat
274 ने देखा
10 महीने पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post