Change your language
Tap the Share button in Safari's menu bar
Tap the Add to Home Screen icon to install app
ShareChat
#

📣 असलियत अर जानकारी

*वाह रे पैसा! तेरे कितने नाम?* मंदिर मे दिया जाये तो *( चढ़ावा )* स्कुल में *( फ़ीस )* शादी में दो तो *( दहेज )* तलाक देने पर *( गुजारा भत्ता )* आप किसी को देते हो तो *( कर्ज )* अदालत में *( जुर्माना )* सरकार लेती है तो *( कर )* सेवानिवृत्त होने पे *( पेंशन )* अपहर्ताओ के लिएं *( फिरौती )* होटल में सेवा के लिए *( टिप )* बैंक से उधार लो तो *( ऋण )* श्रमिकों के लिए *( वेतन )* मातहत कर्मियों के लिए *( मजदूरी )* अवैध रूप से प्राप्त सेवा *( रिश्वत )* और मुझे दोगे तो *(गिफ्ट)* *मैं पैसा हूँ:!* मुझे आप मरने के बाद ऊपर नहीं ले जा सकते; मगर जीते जी मैं आपको बहुत ऊपर ले जा सकता हूँ। *मैं पैसा हूँ:!* मुझे पसंद करो सिर्फ इस हद तक कि लोग आपको नापसन्द न करने लगें। *मैं पैसा हूँ:!* मैं भगवान् नहीं मगर लोग मुझे भगवान् से कम नहीं मानते। *मैं पैसा हूँ:!* मैं नमक की तरह हूँ; जो जरुरी तो है मगर जरुरतसे ज्यादा हो तो जिंदगी का स्वाद बिगाड़ देता है। *मैं पैसा हूँ:!* इतिहास में कई ऐसे उदाहरण मिल जाएंगे जिनके पास मैं बेशुमार था; मगर फिरभी वो मरे और उनके लिए रोने वाला कोई नहीं था। *मैं पैसा हूँ:!* मैं कुछ भी नहीं हूँ; मगर मैं निर्धारित करता हूँ; कि लोग आपको कितनी इज्जत देते है। *मैं पैसा हूँ:!* मैं आपके पास हूँ तो आपका हूँ:! आपके पास नहीं हूँ तो; आपका नहीं हूँ:! मगर मैं आपके पास हूँ तो सब आपके हैं। *मैं पैसा हूँ:!* मैं नई नई रिश्तेदारियाँ बनाता हूँ; मगर असली औऱ पुरानी बिगाड़ देता हूँ। *मैं पैसा हूँ:!* मैं सारे फसाद की जड़ हूँ; मगर फिर भी न जाने क्यों सब मेरे पीछे इतना पागल हैं:?। 🤔🤔😇😇😍😍👌👌🙌🙌
7.4k views
8 days ago
Share on other apps
Facebook
WhatsApp
Copy Link
Delete
Embed
I want to report this post because this post is...
Embed Post