मेरा खूबसूरत गांव
#

मेरा खूबसूरत गांव

यदि आपनें बखरी की कोठरी के ताखा में जलती ढेबरी देखी है, दलान को समझा है, ओसारा जानते हैं, ! दुवारे पर कचहरी देखे हैं, राम राम के बेरा दूसरे के दुवारे पहुंच के चाय पानी किये हैं, दतुअन करनें से पहले मुंह जुठारे हैं, दिन में दाल-भात-तरकारी जरूर खाये हैं, संझा माई की किरिया का मतलब समझते हैं, बरम बाबा का अस्थान आपको मालूम है, डीह बाबा के अस्थान पर गोड़ लागे हैं, बसुला समझते हैं, खंती जानते हैं, कुदार चलाये हैं, सतमेरवन समझते हैं, जुरजोधना का असली नाम दुर्योधन जानते हैं, बारी बगइचा की जिंदगी जिये हैं, चिलचिलाती धुप के साथ लु के थपेड़ों में बारी बगइचा में ओल्हवा-पताल खेले है, पोखरा-गड़ही किनारे बैठकर लंठई किये हैं, पोखरा-गड़ही किनारे खेत में बैठकर ५-१० यारो की टोली के साथ मैदान हुए है, गोहूं, रहर, ऊख का मजा लिये हैं, अगर आपने बचपन में बकइयां घींचा है , अगर आपने गाय को पगुरियाते हुए देखा है, अगर आपने बचपने में आइस-बाइस खेला है, अगर आपने जानवर को लेहना खियाया है , अगर आपने ओक्का बोक्का तीन तड़ोक्का नामक खेल खेला है , अगर आपने घर लेवरते हुए देखा है, अगर आपने ओसावन करते देखा है, अगर आपने गुर सातू, होरहा कचरस और ऊख चीभने के अलावा कुदारी से खेत का कोन कोड़ा है, अगर आपने पोतनहर से चूल्हा पोतते हुए देखा है, अगर आपने कउड़ा तापा है, अगर आप ने दीवाली में दलिद्दर खेद के गोधन की कूटाई भी देखी है तो समझिये की आपने गजब की जिंदगी जी हैं और आप अपने आप को बहुत ही भाग्यशाली समझिए, क्योंकि आज उपरोक्त लिखीत बातें बिलुप्त हो रही है। #मेरा खूबसूरत गांव
117 ने देखा
7 दिन पहले
अन्य एप्स पर शेयर करें
Facebook
WhatsApp
लिंक कॉपी करें
डिलीट करें
Embed
मैं इस पोस्ट का विरोध करता हूँ, क्योंकि ये पोस्ट...
Embed Post